लग्नसरा की ग्राहकी अच्छी चलने के आसार

हमारे संवाददाता
इंदौर । इंदौर थोक मंडी से लगभग सभी मिलों के अलावा पावरलूम सेक्टर के क्वालिटी व्यापार कर्ताओं के यहां अच्छी पूछपरख है। आज देश की हजारों गार्म़ेंट उत्पादक फैक्ट्रियों के कई ब्रांड गार्म़ेंट उत्पादक भी जिनके साथ इंदौर के गार्म़ेंट कपड़ा उद्योगों को राहत पैकेज देने की घोषणा की है। आयात और जीएसटी में परिवर्तन राहत देने से उत्पादककर्ताओं को राहत मिलेगी। यार्न के आयात निर्यात और बंग्लादेश से हो रहे आयात पर भी समीक्षा की है इससे भारतीय उद्योगों को राहत मिलेगी।
उधर सरकार के टेक्सटाइल उद्योग राहत पर जनता समीक्षकों का मानना है कि सरकार हर प्रकार के उद्योगों और बड़े व्यापार जगत को राहत पैकेज देते रहती है। इस राहत पैकेज से जनता को आज तक महंगाई में कोई राहत नहीं मिली है। उनका कहना है कि आखिर राहत पैकेज का औचित्य क्या है। फायदा तो उत्पादकर्ताओं और बड़े व्यापारियों को ही मिलता आया है। अभी मंडियों में सीजन अनुरूप गार्म़ेंट उत्पादन पर अधिक ध्यान है। सियाराम, मयूर, रेमंड, जयश्री टेक्सटाइल के कपड़ों की मांग बड़े गार्म़ेंट उत्पादकों की है तो पावॉरलूम के कपड़ों की भी मांग अच्छी बनी हुई है बताया जा रहा है। इंदौर से फैंसी शर्टिंग, सामान्य ट्राउजर्स, लेडीज फैंसी कुर्ती और ब्लाउज की भी अच्छी मांग बनती जा रही है। उत्पादककर्ताओं के अनुसार यहां का भविष्य अच्छा बताया जा रहा है। लेडीज आयटम हेतु शिफान, फाइन पापलीन और कैम्ब्रिक कपड़ा अधिक उपयोग में आ रहा है। कुर्ति और ब्लाउज में डिजाइनर और पार्टीवियर बनाने हेतु कुछ सिल्की की मांग अधिक होने से साउथ का ही सिल्क कपड़ा अधिक उपयोग में आ रहा है। ब्रांड गार्म़ेंट टी-शर्ट, सूटिंग-शर्टिंग, शर्टिंग में प्लेन, चेक्स, स्ट्राइप और हल्की बारीक कलर र्प्रीट का भी अच्छी मांग रही, प्लेन और बारीक डाबी-डिजाइन लाइन ट्राउजर्स, जींस, सलवार-कुर्ते कॉटन आर शिफान बेस आधारित कपड़ों की सेल को अच्छा व्यवसाय युवाआंz द्वारा मिल रहा है लेडीज में अभी लहरिया साड़ी और लेडीज गार्म़ेंट, मटीरियल में शिफान बेस खरीदी अधिक है। लेनदेन व्यवहार हेतु थोक खरीदी भी इसी अवसर पर देखी जा रही है। रेडीमेड ब्लाउज साउथ सिल्क को भी अच्छे पंसद किये जा रहे है। उनमें भी खरीदी अच्छी बढ़ रही है बताया जा रहा है। हालांकि मंहगे भी अधिक है। 
इनकी खरीदी उच्च वर्ग की महिलाओं की मांग रहने से है। वैसे इंदौर में महिला फैशन डिजाइनरों की भी तादाद बड़े स्तर पर बढ़ रही है। यहां से बन रहे कुछ डिजाइनरों की मांग सेलिब्रीटीज में भी होना बताई जा रही है। सफेद कपड़ों और गार्म़ेंट पर हाल फिलहाल खरीदी कमजोर है मगर सेंचुरी के कट माल फाइन और मोटे काउंट बेस्ड माल का व्यवसाय भी मंडी में अधिक देखने में आ रहा है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer