अच्छी आवक से इलायची के दाम गिरने की संभावना

अच्छी आवक से इलायची के दाम गिरने की संभावना
हमारे संवाददाता
कोची। नई इलायची की ताजा आवक पर इसके दाम गिरने की संभावना है। हालांकि, इस साल इलायची का उत्पादन कम होने से लंबी अवधि में इसके भाव मजबूत रहेंगे। बता दें कि भारत ग्वाटेमाला के बाद दूसरा सबसे बड़ा इलायची उत्पादक देश है। कारोबारियों का कहना है कि इलायची की ताजा आवक बाजार पर दबाव बनाएगी जिससे इसके भाव कुछ समय के लिए नीचे आएंगे। 
केरल के इदुकी जिले में बुधवार को हुई नीलामी में इलायची का औसत भाव 2729 रुपए प्रति किलोग्राम रहा। नीलामी में 20 टन इलायची की आवक हुई। कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स में बुधवार को इलायची का हाजिर भाव 2980 रुपए प्रति किलोग्राम था। बता दें कि 3 अगस्त को पुट्टाडे स्पा इस पार्क में इलायची का अधिकतम भाव सात हजार रुपए प्रति किलोग्राम था। 
कार्डामोम प्रोसेसिंग एंड मार्केटिंग कंपनी (सीपीएमसी) के पीसी पुन्नोपज का कहना है कि इस साल इलायची का सामान्य  उत्पादन 30 हजार टन का आधा 15 हजार टन रहने की उम्मीद है। लेकिन यह उत्पादन पिछले साल से अधिक होगा। उत्पादन रिपोर्ट के आधार पर सीजन में इलायची का भाव 2500-3000 रुपए प्रति किलोग्राम की रेंज में रहने चाहिए। उन्ह्नें कहा कि यदि मौसम अनुकूल रहता है और अंतराल पर बारिश होती है एवं तापमान नीचा रहता है तो इलायची के उत्पादन में इजाफा हो सकता है जिससे इसकी तुड़ाई के राउंड बढ़ सकते हैं। 
कारोबारियों का कहना है कि निकट भविष्य में इलायची के भावों पर नई आवक का दबाव रहेगा लेकिन कम उत्पादन की वजह से यह मध्यम अवधि में भाव बढ़ जाएंगे। 
केरल के इदुकी जिले में अगस्त में भारी बारिश एवं इस साल की पहली छमाही में सूखे की वजह से इलायची पर प्रतिकूल असर पड़ा। इलायची के पौधे काफी संवेदनशील होते हैं एवं उत्पादकता इस पर निर्भर करती है कि बारिश कैसी हुई एवं कितने दिन बारिश हुई। इलायची को कम तापमान चाहिए एवं नमी अधिक। भारी बारिश से इसके पौधों को नुकसान होता है।  

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer