अपेक्षित ग्राहकी का अभाव

अपेक्षित ग्राहकी का अभाव
हमारे संवाददाता
गत सप्ताह भी यहां की थोक व रिटेल कपड़ा मार्केटों में ग्राहकी नीरस बनी हुई है। कई व्यापारियों का तो यहा तक कहना हैयही हालात रहे तो दीवाली पर भी ग्राहकी ऐसे ही कमजोर चले। उनका अनुमान इस बात पर आधारित हैकि नगदी का संकट गहराया हुआ है। वसूली नहीं आने से लोगों की हिम्मत छूट गई है, अभी भी अप्रैल माह तक के भुगतान नहीं आए है। लोगों का कहना हैकि इस समय माल बेचेंगे उसका भुगतान कब तक आएगा इसका प्रमुख कारण इस इलाके में अतिवृष्टि से सोयाबीन व अन्य फसल खराब हो गई है, इससे त्योहारों की रौनक कम हो जाएगी। मिलें नया स्टाक तो ला रही है, लेकिन चल पायेगी यह कहना मुश्किल है। उपभोक्ता की जेब से बड़ी कंपनियां व्यापारियों खाली करा लेगी। बड़े आकर्षक आफर्स मॉल में भी आ रहे है। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में भी अच्छी आफर्स दे रही है। कपड़ा मार्केटों में रौनक कब तक लौटेगा कहा नहीं जा सकता। नवदुर्गा, दशहरा करवा चौथ की ग्राहकी नहीं चल रही है। श्राद्धपक्ष समाप्त होने के बाद अब स्थिति स्पष्ट होगी।
सूटिंग में ग्राहकी बेहद कमजोर चल रही है। पीवी, पीसी प्योर कॉटन, लिनन में जोड़ी, सफारी टीएल में छिटपुट मांग निकली है। मिलों में जेहेम्पस्टेड, रेमण्ड, सियाराम, एसजे, डोनियर, बीएसएन, डोनियर ओसीएम के मालों में ग्राहकी ठीक है। भीलवाड़ा की मुरारका, सिटी लाइन के मालों में ग्राहकी सामान्य रही। प्लेन में यलो कलर्स की मांग ठीक है।
शर्टिंग में ग्राहकी कमजोर चल रही है। पीसी, पीव। प्योर कॉटन लिनन में फैन्सी आइटमों में मांग रही। चेक्स सभी प्रकार के छोटे-बड़े साइज के चेक्स मे मांग रही । मिलों में जे हेम्पस्टेड, बजाज फैब्रिक, जिन्दल फैब, एमपी टेक्स, रमेश शर्टिंग में मांग रही।
साड़ियों में ग्राहकी अपेक्षानुसार नहीं चली है। करवा चौथ की ग्राहकी भी कमजोर रही। वर्क वाले मालों की मांग है, लेडीज मालों में सलवार-सूट, कुर्तियां में ग्राहकी ठीक रही। 
कॉटन मालों में ग्राहकी सामान्य रही पापलीन, ब्लाउजपीस, बेडशीट्स में मांग रही। रेडीमेड में ग्राहकी सामान्य रही।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer