ग्वार सीड के भाव इस साल भी रेंज बाउंड रहने की उम्मीद

ग्वार सीड के भाव इस साल भी रेंज बाउंड रहने की उम्मीद
हमारे संवाददाता
श्रीगंगानगर। ग्वार सीड के दाम 1 अक्टूबर 2019 से शुरू नए मार्केटिंग वर्ष में अपने निचले स्तर से एक हजार रुपए प्रति क्विंटल तक ऊपर उठ सकते है एवं इसमें जल्दी ही बॉटम आउट होगा, यह कहना हैअलग-अलग तकनीकी विश्लेषकों का। 
राजस्थान के शहर श्रीगंगानगर में आयोजित ग्वार सेमिनार 2019 में ग्वार के भावी प्राइस आउटलुक सत्र में केडिया कमोडिटीज के अजय केडिया ने कहा कि पिछले साल भी ग्वार सेमिनार के बाद ग्वार के दामों में तेजी आई, हालांकि, माहौल 5000 रुपए प्रति क्विंटल का था लेकिन इस भाव को ग्वार नहीं छू सका। हालांकि, ग्वार सीड ने दो से तीन बार कोशिश जरूर की थी इस प्राइस लेवल को छूने की। लेकिन इसमें सफलता नहीं मिली एवं ग्वार के दाम नीचे आ गए। हर बढ़त पर मुनाफा वसूली ने इसे इस सॉइक्लोजी लेवल को पार नहीं करने दिया एवं यह 4450 को तोड़ते हुए 4100 रुपए तक आ गया। ग्वार सीड ने पिछले 15 दिन में 4100 का लेवल भी तोड़ा हैजो अहम है, हालांकि, इसके फंडामेंटल मजबूत है लेकिन नकदी की तंगी और कमोडिटी बाजार के बिगड़े माहौल ने ग्वार सीड पर भी अपना असर दिखाया है। चार्ट के अनुसार ग्वार सीड निकट भविष्य में 3480 रुपए तक आ सकता हैलेकिन 4150 के ऊपर यह 4450 तक जा सकता है। अब ग्वार के दाम को क्रूड के साथ संबंध खत्म हो गया हैलेकिन अमेरिकी डॉलर की तुलना में भारतीय रुपए की स्थिति जरूर प्रभावित करेगी। यदि रुपया 73-74 आ जाता हैतो ग्वार गम का रेश्यो बिगड़ेगा और ग्वार सीड के दाम 3400 रुपए से नीचे भी जा सकते है एवं इसके बाद ही इसमें बढ़त की उम्मीद की जा सकती है। 
लोटस कंसल्टेंसी के राजीव रामपुरिया ने अपनी राय जताते हुए कहा कि ग्वार सीड का लांग टर्म व्यूस देना इस समय जल्दबाजी होगी। ग्वार गम का रेश्यो जब दो के ऊपर टिके तब इसमें खरीद करनी चाहिए। ग्वार सीड नीचे में 3800 रुपए और ऊपर में 4600 रुपए की रेंज में दिख सकता है। बाजार में एक ही बात रहती हैग्वार बेचना नहीं चाहिए एवं खरीद ही करनी चाहिए, ग्वार के दाम बढ़ते हैं तो यह मन में आ जाता हैभाव और बढ़ेंगे अब इससे निकलना चाहिए। उन्होंने कहा कि ग्वार सीड में 3450 रुपए और ग्वार गम में 6800 रुपए पर रिएक्शन देखने को मिलेगा जो इन दोनों के दाम ऊपर उठाएगा एवं ऐसी खरीद में ग्वार सीड को 4200 तक होल्ड किया जा सकता है। 
स्वतंत्र विश्लेषक निखिल वोरा का कहना हैकि यदि ग्वार सीड 3700 का स्तर तोड़ देता हैतो यह 3390 रुपए या इससे नीचे के लेवल को छू सकता है। इसे 3700-3710 रुपए का सपोर्ट है। यह सपोर्ट मिलता हैतो ग्वार सीड दिसंबर तक 4150-4240 रुपए पहुंच सकता है। ग्वार सीड जब तक 4370 का वीकली क्लोजिंग नहीं देता, इसमें तेजी नहीं ढूंढनी चाहिए। 4370 के ऊपर यह 4400 रुपए तक जा सकता है। 
विनोद कमोडिटीज के अमित खरे की राय में ग्वार सीड के दाम दबाव में है। ग्वार सीड अक्टूबर वायदा में 3770 का स्टॉप लॉस लगाकर बिकवाली की जा सकती हैएवं अगले लेवल 3640-3620 हो सकते है। इस लेवल पर मार्केट को बॉटम मिलना चाहिए एवं ग्वार के दाम में एक हजार रुपए प्रति क्विंटल का सुधार आने की संभावना होगी। 
तकनीकी विश्लेषक अखिलेश जैन के मुताबिक एनसीडीईएक्स का कृषि इंडेक्स अभी भी 3-4% गिर सकता है। इस इंडेक्स में ग्वार, चना और सोयाबीन शामिल है। ऐसे में ग्वार आने वाले दिनों में 3-4% घट सकती है। ग्वार सीड के दाम 9-10 महीने से एक रेंज में ट्रेड कर रहे हैं एवं यह रेंज 4600-4100 रुपए की रही। ग्वार सीड के दाम आने वाले दिनों में 3700-3650 रुपए तक जा सकते है एवं इस लेवल पर भी इसमें ज्यादा बढ़त की संभावना नहीं हैलेकिन यह रिकवर होकर 4150-4200 रुपए तक आ सकता है। ग्वार सीड में 3700 रुपए के नीचे खरीद की जानी चाहिए। 
स्वतंत्र विश्लेषक कमलेश शाह का कहना हैकि ग्वार को 3660-3550 पर मजबूत सपोर्ट है। यह ऊपर में 4220-4400 रुपए प्रति क्विंटल तक जा सकता है। तकनीकी विश्लेषक भूपेश शर्मा के मुताबिक ग्वार सीड के 3250-3400 रुपए आने पर खरीद करनी चाहिए एवं इसमें निकट में ऊपर के लेवल 4700-4950 रुपए के दिख रहे हैं। ग्वार सीड तीन साल से पांच हजार रुपए के भाव को पार नहीं कर पाई हैलेकिन यह जनवरी-फरवरी 2020 के बाद पांच हजार रुपए के स्तर को पार कर सकती हैएवं यह 6400-7800 तक भी जा सकती हैलेकिन फिलहाल इसमें 500 अंक की गिरावट दिख रही है। 
एनसीएमएल के रिसर्च हैड श्रीधर नंदम का कहना हैकि ग्वार सीड में दो सीजन होते हैं। पहला अभी से जनवरी तक का और दूसरा फरवरी से सितंबर तक का। ग्वार सीड अभी 3350-3450 रुपए तक जा सकता हैएवं 15 दिसंबर से 15 जनवरी के बीच यह इस लेवल से 30% का रिटर्न देगा जबकि इसके बाद इसके लेवल 4400-4600 रुपए के होंगे।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer