रिलायंस इंडस्ट्रीज की क्रूड प्रोसेसिंग मार्जिन में होगा सुधार

रिलायंस इंडस्ट्रीज की क्रूड प्रोसेसिंग मार्जिन में होगा सुधार
रिलायंस जिओ को मैट की नीची टैक्स दर का मिलेगा लाभ
मुंबई। वित्तमंत्री निर्मला सीतारामन ने कार्पोरेट टैक्स घटाया, उसके कारण रिलायंस इंडस्ट्रीज को कर में 2 से 3% की बचत होगी, क्रेडिट सुइस के विश्लेषक ने यह बात कही। रिलायंस जिओ मिनिमम आल्टरनेट टैक्स (मैट) अदा करती है। मैट घटने से उसे लाभ होगा। रिटेल कामकाज में मार्जिनल टैक्स रेट हैऔर उसे भी कर कटौती से फायदा हुआ है।
हालांकि रिलायंस की रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल बिजनेस में कटौती का कम लाभ मिलेगा क्योंकि उसे एक्जेम्पशन का लाभ मिलता है। जिससे उसके लिए कर की प्रभावी दर 25-27% है। हालांकि रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल का कामकाज अच्छा रहने की धारणा है। वर्ष 2019 के दौरान इन दोनों का कुल आय में 60% योगदान है।
क्रूड तेल में रिफाइनरी मार्जिन कुछ समय के लिए दबाव में थी, लेकिन क्रूड तेल का भाव बढ़ने से रिफाइनिंग में मुनाफा बढ़ेगा। इंटरनेशनल मेरीटाइम आर्गेनाइजेशन (आईएमओ) नियम शुरू होने से भी उसकी रिफाइनिंग मार्जिन सुधरेगी।
इúधन में सल्फर की मात्रा कम करने का नियम लागू होने से रिलायंस की रिफाइनिंग मार्जिन अभी बढ़ेगी।
एक विश्लेषक का मानना हैकि एलएनजी का भाव घटने और उसकी क्षमता में वृद्धि करना धीमा पड़ने से कंपनी की मुनाफा मार्जिन में सुधार होगा।
रिलायंस जिओ के फाइबर सर्विस शुरू करने से डिजिटल बिजनेस का परिचालन लाभ बढ़ने की धारणा भी विश्लेषकों को है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer