हल्दी के दाम गिरने से कडपा के किसान कर्ज बोझ तले दबे

कडपा। ई-टेंडर सुविधा होने के बावजूद आंध्र प्रदेश के कडपा जिले के किसान हल्दी के आकर्षक दाम लेने में विफल है एवं उनकी उपज के दाम घटते जा रहे हैं। किसानों का कहना है कि उन्हें हल्दी के दाम दो हजार रुपए प्रति क्विंटल से अधिक नहीं मिल पा रहे हैं जबकि वे अपनी उपज को ज्यादा समय गोदाम में रखने में भी सक्षम नहीं हैं। किसानों को यह उम्मीद थी कि राज्य सरकार उन्हें आकर्षक भाव देगी लेकिन उनकी इस उम्मीद पर भी पानी फिर गया है एवं सरकार ने हल्दी खरीद का कोई भाव  घोषित नहीं किया है। 
 हल्दी किसानों का कहना है कि एक एकड़ हल्दी पर उनका निवेश 1.25 लाख रुपए होता है जबकि यील्ड 30 क्विंटल तक आती है। किसानों को नई सरकार से उम्मीद थी कि वह हल्दी का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) दस हजार रुपए प्रति क्विंटल घोषित करेगी लेकिन ऐसी कोई घोषणा नहीं हुई और उन्हें हल्दी दो हजार रुपए प्रति क्विंटल पर बेचनी पड़ रही है। किसानों का कहना है कि कारोबारी हल्की क्वालिटी की हल्दी नहीं खरीद रहे हैं। वर्ष 2018-19 में उन्हें हल्दी 3799 रुपए, वर्ष 2017-18 में 4499 रुपए और वर्ष 2016-17 में 4512 रुपए प्रति क्विंटल बेचनी पड़ी थी जो वर्तमान में दो हजार रुपए प्रति क्विंटल बिक रही है। किसानों का कहना है कि यदि हल्दी का एमएसपी दस हजार रुपए प्रति क्विंटल तय हो जाए तो उन्हें 1.25 लाख रुपए के निवेश पर कुछ लाभ हो सकता है।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer