कपड़ा उद्योग 2030 तक $ 300 अरब के स्तर पर पहुंचने की संभावना

कपड़ा उद्योग 2030 तक $ 300 अरब के स्तर पर पहुंचने की संभावना
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली। कोयंबटूर-देश का कपड़ा उद्योग 2030 तक 300 अरब डॉलर को छूने की संभावना है।जिससे 3.5 करोड़ अतिरिक्त रोजगार सृजित होंगे।
दरअसल दूसरा वीव्स संस्करण 2019 ईरोड को संबोधित करते हुए भारतीय उद्योग परिसंघ (सीसीआई) की तमिलनाडु राज्य परिषद के उपाध्यक्ष हरि त्यागराजन ने 27 नवम्बर 2019 को कहा कि इस लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है।जिसको लेकर कपड़ा उद्योग उच्च मूल्य के कपड़ा उत्पादों के निर्यात बढाने,आधुनिक तकनीक अपनाने और कारोबारी प्रक्रियाओं को अपनाने पर ध्यान केद्रित करें।उन्होंने कहा कि सिंथेटिक्स कपड़े और खिलाड़ियों कें लेकर बनने वाले परिधान तेजी से उभरते क्षेत्र हø।उन्होंने कहा कि कपड़ा उद्योग देश के सकल घरेलू उत्पाद में 5 प्रतिशत की हिस्सेदारी करता है और देश का 13 प्रतिशत निर्यात में योगदान करता है।वहीं देश में कपड़ा क्षेत्र 5 करोड़ लोगों को रोजगार प्रदान करता है।जिससे देश में कपड़ा क्षेत्र से लाखों लोगों की आवाजिका चलायमान है।
भारतीय क्लोदिंग मार्केट के 2020 में 53.7 बिलियन डालर का होने की संभावना है। बिजनेस आफ फैशन और मैककिन्सी एंड कंपनी की फैशन रिपोर्ट के अनुसार, जिससे भारतीय क्लोदिंग मार्केट विश्व में छठा सबसे बड़ा मार्केट बन जाएगा।
रिपोर्ट के अनुसार, व्यापार तनाव बढ़ने, राजनीतिक अनिश्चितता और आर्थिक चिंता के कारण ग्राहक खर्च की वैश्विक प्रत्याशा धुंधली होने से भारत विशेष रूप से भाव स्पर्धात्मक खिलाड़ियों के लिए शानदार अवसर पेश करता है। आईएमएफ के विश्लेषकों ने कहा कि इस वर्ष जीडीपी वृद्धि उम्मीद से कम है, इसके बावजूद भारत को सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था माना जा रहा है।
भारत ने जारा, एच एंड एम एवं मार्क्स एंड स्पेंसर जैसे वैश्विक ब्रांड्स को आकर्षित किया है। हाल में जापानी रिटेलर यूनिक्लो ने प्रवेश किया है तथा सरकार ने उद्योग को और प्रोत्साहन देते हुए सिंगल ब्रांड रिटेल में लोकल सोर्सिंग मानक में राहत दी है। एमजीएफआई ने पूर्वानुमान व्यक्त किया है कि 2020 में फैशन उद्योग की आय वृद्धि में और गिरावट आएगी, जिसके 2019 के लिए अनुमानित वृद्धि 3.5-4.5% से घटकर 3-4% रहने का अनुमान है। 55% फैशन एक्जिक्युटिव ने 2020 में मंदी का अनुमान व्यक्त किया है। सिर्फ 9% ने उद्योग के लिए स्थिति में सुधार होने की बात कही है।  

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer