आयर्न ओर भारत में आपूर्ति घटेगी और भाव बढ़ेंगे

आयर्न ओर भारत में आपूर्ति घटेगी और भाव बढ़ेंगे
इब्राहिम पटेल 
क्विंटल वैश्विक कमोडिटी बाजार का मानदंड माने जाते और स्टील उत्पादन में महत्वपूर्ण कच्चे माल आयर्न ओर के बेंचमार्क निर्धारित करने की विधि दोषपूर्ण है। एशिया में तीन आयर्न ओर बाजार में कुछ ट्रेडिंग हाउस खेला कर रहे हैं। हाजिर, वायदा और डेरिवेटिव्स बाजारों का हवाला देते हुए ओडी नेचरल रिसोर्सेस के हेनरी स्टील का कहना है कि वले, रियो-टिंटो और फोर्तेस्क्यू सहित की खनन कंपनियों की मुख्य आय का स्रोत ही आयर्न ओर है। वह पिछले सप्ताह सिंगापुर में एसएंडपी ग्लोबल मार्केट द्वारा आयोजित एक सम्मेलन में बोल रहे थे। 
ब्राजील और ऑस्ट्रेलिया में आपूर्ति की समस्या निर्माण होने से जुलाई में भाव पांच साल के उच्च स्तर पर पहुंच गए थे, जो जनवरी में 72 डॉलर के तल पर थे, उसके बाद अब घटकर 88 डॉलर के नजदीक बोला जा रहा है। हेनरी स्टील का कहना है कि विश्व के बड़े उत्पादकों ने ट्रेडिंग हाउसों की ऐसी चालाकी से दूर रहकर वास्तविक बेंचमार्क भाव स्थापित करने के लिए सावधान रहना चाहिए। एक्सचेंजों पर भी बेंचमार्क भाव, केवल एसेटमेंट की विधि के द्वारा निर्धारित किए जाते हैं। एसएंडपी ग्लोबल प्लात्स जैसे समूहों ने उत्पादकों, ट्रेडरों और स्टील मिलों को तथाकथित हाजिर बाजार में पूर्ण किए गए सौदों की जानकारी देने को कहा है। 
हालांकि, मॉर्गन स्टेनली की राय अलग है, वे कहते हैं कि मजबूत मांग, बाजार में टाईट सप्लाय स्थिति स्थापित करेगा, जो स्पॉट भाव को 90 डॉलर की ऊंचाई पर पहुंचाएगा। स्टील मिलों के पास कम स्टॉक, निकट भविष्य में आपूर्ति बढ़ने की कम संभावनाएं और बाजार का मजबूत आंतरप्रवाह को देखते हुए भाव नीचे जाने के लिए कोई संकेत अभी नहीं मिल रहे हैं। आयर्न ओर ब्रोकरों का मानना है कि चीन में 2020 की दूसरी छमाही में निर्माण गतिविधि धीमी हो जाएगी, इसलिए अल्पावधि में स्थिति टाईट रहेगी। अब तक, सर्दियों का मौसम अपेक्षाकृत गर्म रहा है, इसलिए निर्माण गतिविधि भी धीमी नहीं हुई है और रीबार स्टील के एंड यूजर्स की खरीददारी जारी रही है। 
डेलियान कमोडिटी एक्सचेंज पर आयर्न ओर जनवरी वायदा घटकर 646 युआन बोला गया था। चीन में एचआरसी स्टील (एसएस 400 ग्रेड) भाव, अक्टूबर में 427 डॉलर थे, वह बढ़कर एक्स-तेन्ज़ीन 455 डॉलर बोला जा रहा है। सीआईएस की तुलना में यह भाव प्रति टन 80 डॉलर, तुर्की की तुलना में 15 डॉलर और ब्राजील की तुलना में 37 डॉलर ऊपर है। चीन जो एशियाई देशों में निर्यात करता है, ऑस्ट्रेलिया से आयर्न ओर की चीन में आयात, साल दर साल अक्टूबर में 9.4 प्रतिशत घटकर 539.9 लाख टन से अब तक में 1.25 प्रतिशत घटी थी। अक्टूबर में ब्राजील से आयात पिछले साल की तुलना में 1.82 प्रतिशत बढ़कर 240.5 लाख टन हुई थी। चीन के कस्टम्स डेटा यह दर्शाता है कि लगातार तीन महीने तक आयात बढ़ने के बाद अब आयात घट गई थी। 
मार्च में भारत की 232 आयर्न ओर खदानों के लीज़ कांट्रैक्ट खत्म हो रहे है, साथ ही कुल 329 खदानों की नीलामी की प्रक्रिया मोदी सरकार ने शुरू कर दी है। एक सरकारी प्रवक्ता का कहना है कि इन सभी खदानों की उत्पादकता घट गई है, इसमें नया पूंजी निवेश नहीं हो रहा है और खदानों के एलोटमेंट में पारदर्शिता लाने हेतु से लीज़ कांट्रेक्टों नए सिरे से किए गए हैं। लीज़ कांट्रेक्टों को खत्म हो जाने के कारण भारत में आयर्न ओर का अल्पावधि का उत्पादन 25 से 30 प्रतिशत घटने की संभावना है। इसकी वजह से भारत में आपूर्ति की किल्लत होगी और भाव बढ़ेंगे।

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer