अनुकूल मौसम से गेहूं की रिकॉर्ड बोआई

अनुकूल मौसम से गेहूं की रिकॉर्ड बोआई
गेहूं में नरमी रहने के आसार
रमाकांत चौधरी 
नई दिल्ली । चालू रबी फसल मौसम के तहत देश के प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्यों में खेतों में नमी बनी हुई है।जिससे किसानों को गेहूं की बोआई को लेकर मौसम अनुकूल बना हुआ है।जिससे इस बार चालू रबी फसल मौसम के तहत देश भर के विभिन्न गेहूं उत्पादक राज्यों में गेहूं की बोआई रिकॉर्ड हो रही है और गेहूं की बोआई को लेकर अब तापमान भी नरम हो गया है।वहीं सरकारी एजेंसियों के भंडारण में गेहूं का स्टॉक काफी अधिक हो रखा है।ऐसे में बिकवाली के दबाव से गेहूं में आगे नरमी रहने के आसार नजर आ रहे हø।
दरअसल इस वर्ष मानसून के उतरार्द्व में देश के विभिन्न उत्पादक राज्यों में बारिक की अधिकता के चलते गेहूं की खेतों में नमी अच्छी खासी बनी हुई है।वहीं अब देश भर में तापमान काफी कम हो गया है।जिससे गेहूं की बोआई को लेकर मौसम बेहद अनुकूल हो गया है।जिससे देश भर के किसान गेहूं की बोआई को लेकर विशेष रुप से उन्मुख हो रहे है और गेहूं की रिकॉर्ड बोआई करने को लेकर विशेष रुप से अग्रसर हो रहे है।वहीं देश के महाराष्ट्र,गुजरात,तेलंगाना और राजस्थान के चुनिंदा क्षेत्रों में मानसून की बारिश विलंबित हुई थी जिससे वहां की खेतों में नमी का स्तर अच्छा बना हुआ है।वहीं अब इन उत्पादक राज्यों में तापमान धीरे धीरे कम होता जा रहा है।ऐसे में चालू रबी फसल मौसम के तहत अब तक 305.6 लाख हेक्टेयर के सामान्य रकबे में से 100 लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्रों में गेहूं की बोआई हो चुकी है।वहीं आगे गेहूं बोआई की रफ्तार में व्यापक रुप से बढोतरी होने के आसार नजर आ रहे है।वही इस बार चालू रबी फसल मौसम में मध्य प्रदेश में गेहूं की बोआई 20/25 प्रतिशत अधिक होने के समाचार है।ऐसी स्थिति को देखते हुए मंदेड़िये की सक्रियता बढ रखी है,जिससे इस समय दिल्ली व इंदौर जैसे थोक गल्ला बाजारों में गेहूं की कीमत  2250/2400 रुपए क्विंटल बोले जा रहे है।यद्यपि दिल्ली के थोक बाजार में गेहूं का भाव 2200 रुपए क्विंटल के निचले स्तर पर चल रहे है।वहीं महाराष्ट्र के थोक बाजार में गेहूं का भाव 2400/2450 रुपए क्विंटल बोला जा रहा है।उल्लेखनीय है कि भारत दुनियाभर में गेहूं का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादन देश है।ऐसे में पिछले वर्ष  देश में 10.21 करोड़ टन गेहूं की बंपर उपज हुई थी।जिसके तहत इस समय एफसीआई के पास 373.7 लाख टन अनाज का स्टॉक का भंडारण बना हुआ है।जिसके तहत एफसीआई की तरफ से 40/50 लाख टन गेहूं खुले बाजार में बेच चुका है।जिसके तहत फ्लोर मिलों की तरफ से गेहूं की खरीदी 20/25 लाख टन और खरीदने का मन बना रही है।जिससे ऐसा लगता है कि गेहूं के भाव में आगे नरमी का रुख बना रहेगा।जिससे आम उपभोक्ताओं को सस्ती गेहूं की उपलब्धता सुनिश्चित हो सकेगी।   

© 2019 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer