टफ की ƒ 140 करोड़ की सब्सिडी अंतत: रिलीज

फीआस्वी की लगातार मांग सफल : हाईस्पीड मशीनरी को भी टफ योजना का लाभ मिलेगा
मुंबई में केद्रीय टेक्सटाइल कमिश्नर मलोय चक्रोबर्ती की अध्यक्षता में टफ (टेक्नोलाजी अपग्रेडेशन फंड) योजना की टेक्निकल कमेटी की बैठक में दीर्घावधि से लंबित आवेदनों में से सूरत की 230 से अधिक सब्सिडी के आवेदनों का समाधान किया गया है। टफ योजना के टेक्निकल कारणों से फंसे 400 करोड़ रु. में से अनुमानत: 140 करोड़ रु. का फंड रिलीज कर दिया गया है। टफ येजना के तहत फंसे फंड के रिलीज होने से आगामी दिनों में सूरत कपड़ा उद्योग में विस्तार होगा।
फीआस्वी के चेयरमैन भरतभाई गांधी ने केद्रीय मंत्री और टेक्सटाइल कमिश्नर के समक्ष टेक्निकल खामियों के कारण फंसे आवेदनों के समाधान के लिए लगातार जोरदार मांग की है। हाल ही में मुंबई में आयोजित बैठक में फीआस्वी की तरफ से वीविंग अग्रणी मयूरभाई गोलवाला और आशीषभाई गुजराती उपस्थित रहे। 
वीविंग अग्रणी मयूरभाई ने बताया कि 31 दिसंबर तक टेक्निकल खामियों के कारण फंसे आवेदनों का फंड रिलीज किया गया है तथा कुछ आवेदन अभी पेंडिंग हø उनके समाधान के लिए शीघ्र मंजूरी दे दी जाएगी, ऐसा आश्वासन दिया गया है। सूरत के 460 से अधिक पेंडिंग आवेदनों में से 230 से अधिक आवेदनों का समाधान किया गया है। अनुमानत: 140 करोड़ रु. से अधिक फंसा फंड रिलीज हुआ है।
इसके अलावा, मीटिंग में हाईस्पीड मशीनरी को भी टफ योजना के तहत लाभ देने की मांग स्वीकार की गई है। एयर काम्प्रेशर आधारित शीफली मशीनरी को भी टफ योजना का लाभ नहीं मिलता था, वह अब मिल सकेगा। हाईस्पीड वॉरपिंग स्पीलिट मशीन पर नीटिंग उद्योग को भी टफ योजना का लाभ मिलना शुरू होगा।
टेक्निकल कारणों से टफ योजना का फंड रिलीज होना शुरू होने से आगामी दिनों में सूरत कपड़ा उद्योग में नया विस्तार होगा। उद्यमी हाईस्पीड लूम्स के साथ एम्ब्रोइडरी की अत्याधुनिक मशीनों में निवेश करेंगे, ऐसी संभावना है।
 

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer