आईआईडब्ल्यू की वेल्डिंग क्षमता बढ़ाने और कौशल स्तर बेहतर करने की योजना

6 से 9 फरवरी के दौरान इंटरनेशनल वेल्डिंग कांग्रेस और वेल्ड इंडिया प्रदर्शनी का आयोजन
मुंबई। भारतीय वेल्डिंग संस्थान, आईआईडब्ल्यू-इंडिया ने भारत सरकार के कौशल विकास मंत्रालय, पूंजीगत वस्तु क्षेत्र, राष्ट्रीय कौशल विकास निगम और निजी उद्योगों के साथ मिलकर देश में कुशल व्यक्तियों की जरूरत के अंतराल को कम करने की सभी संभावनाओं की तलाश आरंभ कर दी है, ताकि भारत को 5 ट्रिलियन अर्थव्यवस्था बनाने के राष्ट्रीय लक्ष्य को हासिल किया जा सके। देश में कुशल व्यक्तियों की जरूरत लगातार बढ़ती ही जा रही है।
आईआईडब्ल्यू इंडिया द्वारा आगामी 5वें इंटरनेशनल वेल्डिंग कांग्रेस और देश की 13वीं वेल्ड इंडिया प्रदर्शनी का आयोजन 6 फरवरी से 9 फरवरी, 2020 तक नवी मुंबई में इंटरनेशनल इंस्टीटय़ूट आफ वेल्डिंग के सहयोग से किया जाएगा।
आईआईडब्ल्यू राष्ट्रीय आयोजन टीम के सह अध्यक्ष आर. श्रीनिवासन ने कहा कि आईआईडब्ल्यू इंडिया ने धातु को जोड़ने की तकनीक में वेल्डिंग विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी को निरंतर विकसित करने के अपने मिशन में बहु-मंचीय गतिविधियों को तैयार किया है, ताकि देश की प्रगति के लिए चिन्हित क्षेत्रों को सहायता उपलब्ध कराई जा सके, जिनका प्रदर्शन 13वीं वेल्ड इंडिया प्रदर्शनी के दौरान किया जाएगा। 5000 से अधिक वेल्डिंग पेशेवरों तथा सदस्य के रूप में निजी एवं सार्वजनिक, दोनों क्षेत्रों के 300 उद्योगों के मजबूत आधार के साथ, आईआईडब्ल्यू इंडिया ने सुव्यवस्थित तरीके से प्रशिक्षण एवं प्रमाणपत्र उपलब्ध कराने की शुरुआत की है।
इसमें पूरी दुनिया के 22 से अधिक देशों की भागीदारी तथा भारतीय उद्योग जगत में विशिष्ट कौशल विकास की जरूरतों में उद्योगों की भागीदारी पर चर्चा की जाएगी। भारत, कनाडा, चीन, आस्ट्रेलिया और भारत सरकार के अलग-अलग क्षेत्रों की विशेषज्ञ टीमों द्वारा विभिन्न स्तरों पर कार्यान्वित विभिन्न सफल माडलों के अनुभवों को साझा किया जाएगा।
 

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer