एमएसएमई को टैक्स व ब्याज दर में और रियायत मिलने की संभावना

आम बजट 2020-21 की उल्टी गिनती शुरू
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । आम बजट 2020-21 संभवत: पहली फरवरी 2020 को संसद में प्रस्तुत किए जाएंगे।जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से उलटी गिनती शुरु कर दी गई है।जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से माइक्रो,स्माल एण्ड मीडियम इंटरप्राइजेज (एमएसएमई) को टैक्स  और ब्याज दरों में और रियायत दिए जाने की संभावना है।
दरअसल केद्र सरकार की तरफ से आम बजट में एमएसएमई के लिए टैक्स दरों में विशेष छूट दे सकती है।जिसके तहत केद्र सरकार की तरफ से 2.5 प्रतिशत से 5 प्रतिशत स्पेशल टैक्स छूट देने पर विचार कर रही है।उल्लेखनीय है कि देश में 99 प्रतिशत एमएसएमई सेक्टर प्रोपराइटरशिप के तौर पर पंजीकृत है।जिसको लेकर कहा जा रहा है कि कॉर्पोरट टैक्स कटौती से एमएसएमई सेक्टर को कोई फायदा नहीं हुआ है।
हालांकि एमएसएमइढ सेक्टर को लेकर 1 करोड़ रुपए के लोन पर ब्याज दर में 2 प्रतिशत की छूट जारी रहेगी।जिसको लेकर एमएसएमई सेक्टर को 2 वर्ष के ब्याज पर यह छूट हासिल थी।वहीं इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम स्कीम को दो वर्ष और बढाने पर विचार किया जा रहा है।वहीं रियल एस्टेट जैसे एमएसएमई सेक्टर को लेकर फंड बनाने पर विचार किया जा रहा है।यह फांकस्ड फंड 25000 करोड़ रुपए तक हो सकता है।इससे एमएसएमई सेक्टर को कर्ज मिलने में काफी आसानी होगी।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer