सोयातेल में मंदी, पामतेल के आयात पर विचार

सोयातेल में मंदी, पामतेल के आयात पर विचार
हमारे संवाददाता 
इंदौर। खाद्यतेलों में व्यापरिक मांग भी कमजोर रही। व्यापारियों के अनुसार उपभोक्ता खरीदी समर्थन नहीं मिलने तथा मलेशिया और विदेशी बाजारों में गत् गुरुवार को अधिक हलचल रहने से भारतीय बाजार को तेजी समर्थन नही मिला और सोया तेल 890 रु. और पामतेल 860 रु. में मंदी  होना देखी गई है। जबकि अन्य खाद्यतेल भाव स्थिर से रहे। विदेशी वायदा व्यापार में गिरते मलेशियन केएलसीई इंडेक्स के रुख के चलते स्थानीय खाद्यतेलों में हाजर में  गत् हप्ते मंदी का माहोल रहा। भारतीय वायदा व्यापार में सोयातेल पर फरवरी का वायदा 875 रु. तक गिरता बताया जा रहा था। पाम तेल में गिरावट की वजह मलेशिया से निर्यात का भारी घटना बताया जा रहा है।  इससे मलेशियन केएलसीई गत् हप्ते गुरुवार को गिरावट  और शुक्रवार को भी लगभग 57 पाइंट गिरावट में खुली बताया जाता है। भारत मलेशिया पामतेल का बडा आयातक रहा। सस्ते पाम आईल के आयात के कारण  भारतीय तेल के भाव उठ नहीं पा रहे थे। गत् हप्ते सोयाबीन थोक भाव में 25 रु. की मंदी घर कर गई भाव 4150 से 4200 रु. त कहोना बताए गये। प्लांटो की खरीदी 4150 रु. तक हुई बताते है। हालांकि मूंगफली तेल मे मामूली बढ़ोत्तरी 1140 से 1150 रु. की रही।  इस वर्ष सरसों की पैदावार बंपर होना बताया जा रहा है और सरसों की नई फसल जल्द ही उतरने वाली है। इससे सरसो में मंदी होकर 3700 रु. तक होना बताई जा रही थी।  इंदौर में सरसों तेल खेरची भाव 110 रु. से उपर तक बताया जा रहा था।
गत् हप्ते विदेशी मार्केट के मंदी रुख में इंदौर सोया तेल  में मंदी रही। बीते वर्ष और इस वर्ष सोयाबीन का भाव आकर्षक रहा है इससे कृषकों और स्टाकिस्टो को भारी मुनाफा मिला है। इंदौर में विभिन्न प्लांटो का सोयातेल भाव गत् हप्ते गुरुवार  तक में  888- 895 रु. तक था। गत् हप्ते इंदौर मूंगफली तेल 1130-1150 रु., मुंबई मूगंफली तेल 1140 रु., गुजरात लूज 1100 रु. और राजकोट तेलिया 1760 से 1770 रु. के भाव रहे। इंदौर सोया रिफाइंड 895-900 रु., इंदौर साल्वेंट 860-865 रु., मुंबंई सोया रिफाइंड 885 रु., मुंबई पाम 830  रु., इंदौर पाम 860 रु. के भाव रहे। इंदौर कपास्या 860 रु., और राजस्थान सरसों कच्चीघानी तेल 980  तक  के सौदे बोले जा रहे थे।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer