वर्ष 2019-20 के चीनी उत्पादन में परिवर्तन की संभावना नहीं

वर्ष 2019-20 के चीनी उत्पादन में परिवर्तन की संभावना नहीं
नई दिल्ली। देश में 1 अक्टूबर 2019 से शुरू होने वाले नए चीनी उत्पादन सीजन में देश में 260 लाख टन चीनी का उत्पादन होने का अनुमान है। इस अनुमान में अब बड़ा परिवर्तन होने की संभावना नहीं है। पिछले सीजन में यह उत्पादन 331.61 लाख टन था। यह कहना है इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) का। हालांकि, इस्मा ने जुलाई 2019 में जारी अपने आरंभिक अनुमान में यह उत्पादन 282 लाख टन आंका था। 
इस्मा के प्रेसीडेंट विवेक पित्ती ने दुबई में आयोजित एक मीटिंग में बताया कि इस्मा की बैठक 25 फरवरी को होगी। आप मुझसे पूछते है तो म कहूंगा कि मुझे चीनी के उत्पादन अनुमान में कोई बड़ा परिवर्तन होता नहीं दिख रहा। देश में वर्ष 2018 में सूखे और वर्ष 2019 में बाढ़ की वजह से गन्ने की खेती को नुकसान हुआ है जिसकी वजह से इसकी उपलब्धता में कमी आई है। इस्मा का मानना है कि देश में चीनी उत्पादन वर्ष 2019-20 में 21.6% घटकर 260 लाख टन होगा जो तीन साल में सबसे कम होगा। इस्मा के मुताबिक महाराष्ट्र में 62 लाख टन चीनी का उत्पादन होगा जिसे संशोधित कर 65 लाख टन किया जा सकता है। गन्ने का उत्पादन भी आठ लाख टन अधिक होने का अनुमान है जो ईथिनाल में जाएगा। पिछले साल से यह पांच लाख टन बढ़ा है। 
बता दें कि इस्मा ने अपने पिछले अनुमान में कहा था कि नए सीजन में चीनी उत्पादन का यह अनुमान वर्ष 2019-20 में गन्ने के उत्पादन अनुमान के आधार पर लगाया गया है। इस्मा द्धारा अक्टूबर में ली गई सेटेलाइट इमेज के मुताबिक देश में गन्ने का एरिया 48.31 लाख हेक्टेयर रहा जो वर्ष 2018-19 के 55.02 लाख हेक्टेयर की तुलना में 12% कम है। इस्मा के मुताबिक चीनी उत्पादन अनुमान में कमी की वजह महाराष्ट्र एवं कर्नाटक में अनेक कारणों से उत्पादन में कमी आना है। ये दोनों राज्य देश में कुल उत्पादन होने वाली चीनी में 35-40% का योगदान देते हैं। 
इस्मा के मुताबिक उत्तर प्रदेश में सीजन वर्ष 2019-20 में चीनी उत्पादन करीब 120 लाख टन होने का अनुमान लगाया गया था जबकि वर्ष 2018-19 में यह उत्पादन 118.21 लाख टन था। महाराष्ट्र में गन्ने की पैदावार घटने से चीनी का उत्पादन इस वर्ष पिछले साल की तुलना में 40 फीसदी घटकर 62 लाख टन के करीब रहने का अनुमान जताया गया जबकि वर्ष 2018-19 में यह 107.20 लाख टन था। कर्नाटक में भी चीनी उत्पादन चालू सीजन में 32 लाख टन रहने का अनुमान जताया गया। यह उत्पादन बीते सीजन में 44.30 लाख टन था। देश के अन्य गन्ना उत्पादक राज्यों में खास परिवर्तन की संभावना नहीं है एवं इन राज्यों में संयुक्त रूप से चीनी उत्पादन 54.5 लाख टन रहने का अनुमान है जो पिछले सीजन के समान होगा। 1 अक्टूबर 2019 को चीनी का ओपनिंग स्टॉक अब तक का सबसे ज्यादा लगभग 145.81 लाख टन रहा। पिछले साल पेराई सीजन के आरंभ में बकाया केवल 107 लाख टन का था।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer