कपड़ा क्षेत्र : 10 वर्ष में वार्षिक $ 100 अरब निर्यात करने की संभावना

कपड़ा क्षेत्र : 10 वर्ष में वार्षिक $ 100 अरब निर्यात करने की संभावना
रमाकांत चौधरी 
नई दिल्ली-मोदी सरकार की तरफ से भारतीय निर्यात को सुधारने का zलेकर विशेष रुप से सक्रिय हो रखी है।जिसके तहत देश के लगभग एक दर्जन वस्तुओं के निर्यात को बढावा देने पर ध्यान केद्रित की जा रही है जिसमें टैक्सटाइल जैसे प्रमुख क्षेत्र भी शामिल है। जिसको लेकर मोदी सरकार की तरफ से भारतीय कपड़े क्षेत्र के निर्यात सुधारने को लेकर नीतिगत उठाए भी गए हैं और आगे भी उठाए जाएंगे।जिससे स्वभाविक है कि भारतीय कपड़ा क्षेत्र अगले दस वर्ष़ों में वार्षिक 100 अरब डॉलर निर्यात करने की संभावनाएं हैं।  
दरअसल मोदी सरकार की तरफ से भारतीय कपड़े के निर्यात को सुधारने को लेकर विशेष रुप से सक्रिय हो रखी है। जिसको लेकर आगे भारतीय कपड़ा निर्यातकों को प्रोत्साहन देने को लेकर मन बना रही है।जिसको लेकर भारतीय कपड़ा-रेडीमेड वस्त्रों के उद्योगकेद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने मानव निर्मित कपड़े का उदाहरण देते हुए कहा कि केद्र सरकार पिछले कई वर्ष़ों से कपड़ा क्षेत्रों पर विशेष ध्यान दे रही है।जिसके तहत सूती कपड़ों पर हमेशा अधिक ध्यान दिया जाता है।हालांकि वैश्विक स्तर पर भी मानव निर्मित कपड़ों की तरफ अधिक लगाव दिख रहा है।जिसको लेकर केद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि कपड़ा क्षेत्र में काम कर रहे कारोबारियों से बातचीत करने पर पता चला है कि अगले 10 वर्ष़ों में कपड़ा क्षेत्रों का निर्यात 100 अरब डॉलर यानि लगभग सात लाख करोड़ रुपए तक पहुंचने की संभावना है जो कि इस समय 37 अरब डॉलर यानि लगभग 2.60 लाख करोड़ रुपए है।वहीं  दिल्ली व मेरठ की लक्की टेक्स स्पिनर्स लिमिटेड एवं उत्तर प्रदेश के मेरठ,काशीपुर व हरियाणा के पानीपत की सिंघल स्पिनटेक्स प्राइवेट लिमिटेड के चेयरमेन श्री राम ऋषि सिंघल ने मोदी सरकार से गुजारिश की है कि कॉटन यार्न के निर्यात को बढावा देने को लेकर प्रोत्साहन स्कीम 1.9 प्रतिशत से बढाकर 4.1 प्रतिशत किया जाए ताकि कॉटन यार्न के निर्यात प्रतिस्पर्धी होगा।जिससे कॉटन यार्न के निर्यात में सुधार का रुख बन सकेगा।वहीं भारत को वैश्विक स्तर पर नए उभरते देशों के साथ फ्री ट्रेड एग्रीमेंट (एफटीए) की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए जाकि भारतीय काटन यार्न का अधिकाधिक निर्यात का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer