रेडीमेड वस्त्रों का कारोबार प्रभावित

हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । ऐसे में उन्हें यह नहीं सुझा रहा है कि कब हालात सामान्य होंगे कि रेडीमेड वस्त्रों का थोक कारोबार सुचारु पूर्वक चलायमान हो सकेगा।जिसको लेकर थोक व्यापारी रेडीमेड वस्त्रों के कारोबार को लेकर देखो और इंतजार करो की नीति अख्तियार किए हुए हैं  और आगे हालात दुरुस्त होने की लेकर चौतरफा ध्यान केद्रित किए हुए हैं  ताकि आगे कारोबार सामान्य हो सकेगा।जिसको लेकर दिल्ली के गांधीनगर स्थित कैलाशनगर के मुख्यपथ की थोक कारोबारी प्रतिष्ठान जे.के.जैन स्पार्की (इंडिया)एलएलपी के चेयरमैन श्री जे.के.जैन ने बताया कि कोरोना वायरस से आशंकित दिसावरों के व्यापारियों द्वारा अब स्थानीय थोक रेडीमेड वस्त्र बाजार में आने के बजाय सीधे टेलीफोन से ऑर्डर दे रहे हैं  जो कि औपचारिकताएं पूरी करने के लिए होते हैं ।ऐसें में स्थानीय थोक बाजार में रेडीमेड वस्त्रों का थोक कारोबार सीधे तौर पर प्रभावित हो रहा है।ऐसे हालात में दिसावरों को भेजे गए उधारी रेडीमेड वस्त्रों के भुगतान आने कम हो रखे हैं  जिससे थोक व्यापारियों को स्थानीय स्तर पर भुगतान करने में दिक्कत हो रही है। वहीं रेडीमेड वस्त्रों की मांग घटने के चलते दिल्ली व आसपास के क्षेत्रों में कार्यरत रेडीमेड वस्त्र उद्योग में उत्पादन प्रभावित हो रहा है।
ऐसे में आगे कोरोना वायरस को लेकर हालात कैसे रहेंगे जिसको लेकर थोक उद्योग-व्यापार के समक्ष ऊहापोह की स्थिति बन रखी है।जिसको लेकर थोक उद्योग व्यापार जगत को आगे एक पखवाड़ तक के हालात पर तिरछी नजर टिका रखेंगे कि कोरोना वायरस पर कितना काबू पाया जाता है या इसकी रफ्तार बढती ह।जिसको लेकर कारोबारियों की तरफ से देखो और इंतजार करो की नीति अख्तियार किए हुए हैं  और चौतरफा ध्यान केद्रित की जा रही है।ऐसे में देखना यह होगा कि आगे कारोबार को लेकर हालात कैसे रहते हैं ।जिसको लेकर कारोबारियों के समक्ष असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer