कोरोना के डर से बाजार सहमा थोक ग्राहकी ठंडी

कोरोना के डर से बाजार सहमा थोक ग्राहकी ठंडी
रिटेल बाजार में थोड़ी-बहुत चहल-पहल
हमारे संवाददाता   
मालवा का मौसम अब गत् हप्ते से कुछ गर्मी का अहसास दे रहा है । हालांकि राते मालवा की पहचान के अनुसार रही । अर्थात राते ठंडी रहती है । विगत् हप्ते के मुकाबले गत् हप्ते से बाजार थोड़ा कोरोना वायरस के कारण  सहमे रहे । इंदौर रेडिमेड वस्त्र उत्पादकर्ता और व्यवसायियों के अनुसार   विगत् हप्ते संपन्न हुआ  साड़ियों में भी अधिकाश संस्थानों पर कॉटन के साथ ही शिफान बेस्ड मटीरियल की अधिक मांग देखने में आई है । कारोबारियों का मानना है कि कोरोना वायरस के कारण दिसावरी आवाजाही एकदम ठप्प सी हो गई है । वैवाहिक कार्यक्रम भी सिकुड़ गये है । बाजार में अधिक चहल-पहल में आने से लोग घरों से ही अब मांग और पूछ-परख रखने लगे है । आगे थोक मंडी का कारोबार नये सिरे से एक माह बाद ही गति पकड़ेगा । रेडीमेड वस्त्र व्यापारी संघ का एक्सपो भव्य रूप से सफल रहा । गर्मी की हल्की शुरुआत दिन में महसूस होने लगी है । गर्मी के उपयोग का कपड़ा और वस्त्र बाजार की खरीदी हल्के रूप में हो चुकी है । दोनों ओर के व्यापारियों और उद्योगपतियों के अनुसार मौसम के अनुसार फैशन ट्रेंडस बदलता रहता है । मौसम ट्रेंड्स पर ही सभी व्यवसायियो का व्यापार फोकस रहता है । कपड़ा एवं वस्त्र निर्माता - व्यवसायियों का मानाना है कि वर्तमान में बदले फैशन मानसिकता में मेंस का अनुभव प्लेन कपड़ों पर अधिक है और प्रिंट एवं चेक के हल्के डिजाइन की मांग अधिक रही है। महिला कपड़ा और वस्त्र आयटमों में ब्लॉक प्रिंट, बंधेज, क्लसीक लुक की बार्डर डिजाइन के  कपड़ा और वस्त्रों की मांग कुर्ता और साड़ियां में है। महिलाओं की सस्ती साड़िया, दुल्हनों हेतु ब्राईडल वस्त्र लहंगा, चुन्नी, लांचा, फूल गाउन सूट्स , टॉप  और लेगी के व्यवसायियें की ओर भी व्यापार ठंडा रहा बताया गया है । डिजाइन और मांग पर ली गई जानकारी पर व्यापारियों के अनुसार वर्तमान में प्लेन कपडे का चुड़ीदारी पायजामा की जगह अब ऐडी  तक बनने वाले कुद तंग पायजामें की चलन बढ़ने से सभी का ध्यान उसी ओर के पैटर्न डिजाइन के निर्माण और व्यवसाय चलन का है । रेडीमेड वस्त्रों में टी-शर्ट और हाफ बांहो का कुर्ता स्टाइल शर्ट की मांग अधिक बताई जा रही है । जींस की मांग अधिक चलायमान है और केसुअल सूट्स में डिफ्रेंट कलर सूट्स पहनने में सोबर दिखने वाले पøट की मांग है। बाजार चलन में व्यापारियों से ली गई धारणा के अनुसार आजकल व्यक्तिगत् तौर पर कपड़े के बजाय रेडीमेड वस्त्र कपड़ा खरीदना नौकरी पेशा  युवा अधिक पंसद कर रहे है जबकि कच्ची वस्तुओं के युवाआंz की खरीदी शक्ति अधिक नहीं होने से कपड़ा लेकर ही बनवाना अधिक पंसद करते है । सफेद कुर्ते
पाजामे का चलन आजकल सभी वर्ग महजबियों की खास पसंदीदा हो जाने से भारी खरीदी की जा रही होने से आगे चिकन का एम्ब्रायडरी युक्त और पायजामे हेतु फाइन क्वालिटी हरक की भारी मांग बढ़ती जा रही है । 
हालांकि रेडीमेड और कपड़ा रिटेल मार्केट में रिटेल गाहकी खरीदी बनी रही । गर्मी के परिधानों में कॉटन बेस्ड वस्त्रों पर पूछ-परख और खरीदी रही । आगे के वैवाहिक मौसम की धूम शहरी और ग्रामीण दोनों कमजोर रहेगी । कृषि उपज अच्छी आने से किसानी खरीदी आखातीज पर अधिक व्यापार की संभावना थी और ग्रामीण व्यापार की भी हलचल आखतीज की विशेषतौर होती थी उस पर भी इस वर्ष संशय रहेगा।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer