सूरत कपड़ा मार्केट में 11 करोड़ रु. जीएसटी चोरी

सूरत कपड़ा मार्केट में 11 करोड़ रु. जीएसटी चोरी
3.60 करोड़ रु. की हुई वसूली
हमारे प्रतिनिधि
सूरत। सूरत डीजीजीआई यूनिट सूरत के टेक्सटाइल उद्योग के साथ जुड़ी 5 जितनी फर्म़ों के व्यवसायिक स्थानों पर जांच शुरू कर 11 करोड़ रु. जीएसटी की चोरी पकड़ी गयी है। जिमसें से 3.60 करोड़ रु. की टैक्स वसूली स्थान पर ही करके जांच जारी रखी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार जीएसटी विभाग द्वारा क्रिष्ना फैब्रिक्स-सूरत, उमरवाड़ा, अभिवंदन डिजाइनर्स-सूरत, श्री स्वागत एनएक्स बाम्बे मार्केट, सूरत/ब्रिज गोपी क्रिशन-सूरत और नमोनवकार कलेक्शन-सूरत पर छापे की कार्यवाही की गयी। ये फर्म़ें अन स्टीच टाप पर लहंगा की बिक्री करती थी, लेकिन वह टाप और लहंगा की डिजाइन ऐसी थी कि उसे सामान्य स्टीच करने से वह पहननेलायक हो जाती है, ऐसे सेमी स्टीच कपड़े मेडअप्स की कैटेगरी में आते हैं । 1000 से अधिक रु. के मूल्य के मेडअप्स पर 12% जीएसटी है। जबकि फर्म़ों के संचालकों द्वारा 5% के हिसाब से जीएसटी भरी जा रही है जो जांच के दौरान पता चला है।
अधिकारियों द्वारा टेक्सटाइल फर्म़ों के रिकार्ड्स और डाक्यूमेंट्स कब्जे में लेकर गणना करने से 11 करोड़ रु. की कुल करचोरी मिली, फर्म़ों द्वारा स्थान पर ही 3.60 करोड़ रु. का वालेन्टरी टैक्स जमा करा दिया गया जबकि अन्य रकम शीघ्र भरने की जवाबदारी स्वीकारी।
दूसरे केस में बड़ौदा की एमसीसी कान्फ्रीन्ट कंपनी की 1.40 करोड़ रु. की करचोरी पकड़ी है। जिसमें 25 लाख रु. वसूल कर ली गयी है। जीएसटी विभाग द्वारा इन दोनों केसों की जांच चल रही है।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer