कोरोना प्रभावित विमानन क्षेत्रों को चुनिंदा रियायत देने पर विचार

कोरोना प्रभावित विमानन क्षेत्रों को चुनिंदा रियायत देने पर विचार
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । कोरोना वायरस से विमानन क्षेत्र त्रस्त हो रखा है।जिसको लेकर केद्र सरकार की तरफ से विमानन क्षेत्र को चुनिंदा प्रोत्साहन देने पर विचार कर रही है।जिसके तहत शॉर्ट टर्म में लøडिंग,पार्किंग चार्ज पर कुछ छूट दी जा सकती है।वहीं गो एयरवेज ने अनिवार्य लिव विदआउट पे का ऐलान कर दिया है।इसके साथ ही द डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने साफ सफाई पर बड़ा आदेश दिया है।
दरअसल केद्र सरकार की तरफ से विमानन क्षेत्रों को शार्ट टर्म में कुछ राहत दे सकती है।जिसको लेकर केद्रीय विमानन मंत्रालय की तरफ से केद्रीय वित्त मंत्रालय के समक्ष एक प्रस्ताव दिया है।जिसके तहत विमानन कंपनियों को लडिंग व पार्किंग जैसे चार्ज में अगले छह माह को लेकर छूट मिल सकती है।वहीं गो एयरवेज की तरफ से अपने कर्मचारियों को बारी बारी से छुट्टी पर भेजने का फैसला किया है।जिसको लेकर गो एयर में अनिवार्य लिव विदआउट पे लागू हो गया है।ऐसे में पद्रह अप्रैल तक गो एयर की सभी अंतरराष्ट्रीय उॅड़ाने बंद होगी।जिसके तहत पायलट,क्रू को लेकर भी छुट्टी अनिवार्य होगी।जिसको लेकर गो एयर की तरफ से कहा गया है कि हम सुनिश्चित कर रहे हैं  कि एयरलाइंस का कामकाज चलते रहेगा।चूंकि कोरोना वायरस के चलते हवाई उड़ान की क्षमता कम करने का फैसला किया है।वहीं डीजीसीए की तरफ से आदेश दिया गया है कि हवाई जहाजों की साफ सफाई का विशेष ध्यान रखें।जिसको लेकर डीजीएसए की तरफ से निर्देश दिया है कि चौबीस घंटे में एक बार जहाज का विस्तार से सफाई करना जरुरी है।वहीं हवाई अड्डा पर वॉशरुम साफ रखें जाए।चौतरफा एतिहात किट आवश्यक है।वहीं विमान में पर्याप्त हैं ड सैनिटाइजर की पुख्ता व्यवस्था सुनिश्चित किया जाए।वहीं यात्रियों से कम से कम संपर्क की कोशिश की जाए ताकि एतियात बरती जा सकेगी।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer