कोरोना वायरस के कारण संपूर्ण थोक एवं रिटेल कपड़ा और वस्त्र व्यापार रहे बंद

कोरोना वायरस के कारण संपूर्ण थोक एवं रिटेल कपड़ा और वस्त्र व्यापार रहे बंद
थोक बाजार संगठन ने दुकान खोलने पर रु. 1000 का अर्थदंड लगाने का निर्णय लिया : फैशन वस्त्रों की रहेगी मांग  
हमारे संवाददाता
मालवा का मौसम अब विगत् हप्ते बुधवार तक  गर्मी का अहसास कराता रहा , मगर विगत् हप्ते ही बाद में गुरूवार को दोपहर बाद मौसम ने करवट ली और बादल छाने के बाद इंदौर मालवा एरिया में कहीं कही बरसात तो कही भारी छीटें गिरने की खबरे रही । गुरूवार रात्री 9 बजे बाद से सारी रात और शुक्वार सुबह तक रूक रूक कर बरसात होती रही है । बादलो के छाये रहने का दिनभर का प्रतीत हो  रहा है । दोपहर 2 बजे बाद से लगातार गत् हप्ते तक मौसम फा गर्मी भरा हो गया था ।  इसी बीच महामारी प्रकोप बना कोरोना वायरस ने म.प्र. की व्यवसायिक राजधानी का नही बक्शा है । धीरे - धीरे यहां बाहर से आऐ लोगो का संदिग्ध मानकर प्रशासन उनकी चेकिंग में लगा रहा । गत् हप्ते शुक्रवार तक खबर लिखे जाने तक कोई 450 लोगा के जांच सेंपल लिये गये थे उनमें से 60 लोग निगेटिव संदिग्ध हुए । उज्जैन से आई एक संदिग्ध 65 वर्षीय महिला जो इंदौर के अस्पताल मे भर्ती रही की मृत्यु हो गई । दो अन्य लोगो की मृत्यु इसी बीच हुई बताया जा रहा है । विगत् हप्ते से मंद व्यापार - बाजार गत् हप्ते कोरोना वायरस के कारण  पूरा शहर प्रशासन द्वारा लॉकडाउन कर दिया गया । कारण बना इंदौर में संदिग्धो की संख्या बढने और वायरस पीडित अधिक नही बढे उसके कारण प्रशासन ने कडाई का कदम उठाकर सभी ओर लॉकउाडन का निर्णय लिया । सिर्फ आवश्यक मूलभूत सुविधओ का बाजार समयानुसार खूलने का प्रशासन ने निर्णय लिया । इंदौर कलेक्टर श्री लोकेश जाटव ने अगले 15 अप्रेल तक बाजार में आड-इवन नंबर के चौ-पहिया वाहन और दा पहिया वाहन की गाईड लाईन शहर में आने जाने अति आवश्यक कार्यो हेतु दी  है । इंदौर का लॉकडाउन एक तरह से कर्यू जैसा ही है । इसी बीच वायरस से बचाव हेतु इंदौर कपडा एवं वस्त्र व्यवसाईयो एवे उत्पादको ने बाजार-वरूवसाया बंदी का निर्णय  लिया है । व्यवसाय संघठनो ने कोई भी दूकानदार नियम का उलंघन करतेपाये जाने पर 1000 हजार रूप्ये का अर्थदंड लगाने का एवं कडाई पालन करने का निर्णय लिया । पूरा इदौर वायरस से सहमा रहा ।  व्यापारियो और उत्पादको से फोन पर ली गई जानकारी के अनुसार सरकार द्वारा मोटे माल और कालीन उत्पादको के हित में शुल्क प्रोत्साहन योजना की अवधि बढा देने  खुशी जाहिर की है । केंद्रयि सरकार और प्रदेश सरकारो द्वारा गरीब वर्ग , दैनेदिनी श्रमिको और वायरस बीमार पीडितो हेतु कई आपदा प्रोत्साहन पेकेज देने की घोष्णा की है । गत् हप्ते सोमवार तक कारोबारियो का मानना है कि कोरोना वायरस के कारण दिसावरी आवाजाही बंद है । वैवाहिक कार्यक्रम भी सिकुड गये है । बाजार में अधिक चहल-पहल में आने से लोग घरो से ही अब मांग और पूछ-परख रखने लगे थे ।  आगे थोक मंडी का कारोबार नये सिरे से मई माह बाद ही गति पकडेगा अगर प्रकृति ने साथ दिया तो  ।  
आगे के आखतीज के वैवाहिक मौसम की धूम शहरी और ग्रामीण दोनो ओर नही रहेगी । कृषि उपज अच्छी आने से किसानी खरीदी आखातीज पर व्यापार की संभावना थी , और ग्रामीण व्यापार की भी  हलचल आखतीज की विशेषतौर होती थी उस पर भी इस वर्ष संशय रहेगा। फोलना द्वारा व्यापारियो से ली गई जानकारी पर उन्होने बताया कि कोरोना प्रभाव से प्रशासन कब ढील करता है उस पर व्यापार का अगला वातवरण्र बन पाऐगा । उनके अनुसार आगे अभी व्यापार सिकुडा रहेगा । आगे गर्मी के मौसम अनुसार कॉटन के हल्के कपडो का मांग रहेगा । महिला वस्त्रो में फूल साईज कुर्ता चुउाड्डदार पाजमा और पलाजो की ही मांग रहेगी साडियो में बंधेज की मांग फिर से जार्जट शिफॉन म ंहोने लगी है । आगे वैवाहिक मौस की धूमें कमी रहेगी इससे वैवाहिक कपडो की व्यापारिक मांग नही के बराबर रहेगी एसा व्यापारियो की धारणा है । हांलाकि उनके पास एंब्रायडरी युक्त जो चलन में है , उार्क और ब्रईट शेड में ब्राईडल कलेक्शनो की कमी नही है । लेडिज टॉप की मांग में कॉटन के ढीले टज्ञफप की ही मांग 
रहेगी । मेंस और वुमंस दोनो तरफ केसुअल कपडो में इन दिनो प्रींट की मांग अधिक बताई जा रही है । बच्चो के वस्त्र उत्पादन कारखाने कोरोना प्रभाव के कारण प्रशासनिक सख्ति के का कारण बंद है । मगर फोन पर ली गई जानकारी अनुसार बच्चो के गारमेंट में कॉटन और सिथेटिक के साथ ही शिफॉन का कुछ कुछ उपयोग कांबिनेशन है। उनके लिये अब पार्टी वियर में टॉप विथ लेगिंग्स , टॉप विथ स्कर्टस, और गरारा टॉप का फैशन चलन होना बताया जा रहा है ।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer