कोरोना वायरस के खिलाफ जंग

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग
जनहित और अर्थव्यवस्था हेतु कदम
हमारे प्रतिनिधि 
नई दिल्ली । कोरोना वायरस से लड़ने के लिए  सरकार ने जनहित और अर्थव्यवस्थाको ध्यान में रखते हुए ठोस कदम उठाया है जिसे भारत की 130 करोड़ जनता का पूरा सहयोग मिल रहा है। हम यह जंग जीत रहे हैं,  इस में कोई संदेह नहीं। एक तरफ जहाँ पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था कोरोना वायरस के कारण डगमगा गयी हैं वहां भारत इस से अछूता है या यूँ कहें की भारत की अर्थव्यवस्था पर विशेष प्रभाव नहीं पड़ेगा और शीघ्र ही हमारी अर्थव्यवस्था पटरी पर आ जाएगी। इस बात को अमेरिका भी मान रहा है। अमेरिकी प्रमुख ट्रम्प ने भी कहा है की भारत की अर्थव्यवस्था पर विशेष प्रभाव नहीं पड़ेगा। 
कोरोनावायरस (ॐतज्ञतत्ञड्ढिज्ञथि) का असर दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं (अट्टतत्तणी) पर पड़ने वाला है। संयुक्त राष्ट्र (घ्ड्ढदठट्ठ त्ञदड्ढतत्) की एक रिपोर्ट के अनुसार कोरोना की वजह से पूरी दुनिया एक बार फिर से आर्थिक मंदी की ओर बढ़ने वाली है। इससे दुनिया भर में कई ट्रिलिन डॉलर (।़तण्ण्ञज्ञ) का नुकसान होने वाला है। जिसके कारण विकासशील देशों को इसकी वजह से बड़ी समस्या का सामना करना पड़ेगा मगर इसमें भारत अपवाद है। 
बता दें, संयुक्त राष्ट्र की युनाइटेड नेशन ट्रेड एंड डेवलेपमेंट बॉडी की माने तो कोरनावायरस की वजह से पूरी दुनिया तेजी से आर्थिक मंदी की ओर बढ़ रही है और आने वाले दिनों में और तेजी से बढ़ेगी जिसका सबसे ज्यादा नुकसान विकासशील देशों को होगा लेकिन इसमें भारत जैसे देश जल्द संभल जाएंगे।  
इस संस्था ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि विकासशील देशों को इस मंदी से उभरने के लिए 2-3 ट्रिलियन डॉलर की आवश्यकता पड़ेगी। इसके लिए उन्हें 2 साल का समय भी लग सकता है। बता दें उ 20 देशों ने कोरोना आर्थिक संकट से निपटने के लिए 5 लाख करोड़ डॉलर की व्यवस्था की है, जिसे संयुक्त राष्ट्र ने अभूतपूर्व बताया है उनका कहना है कि निश्चित तौर पर इस फंड ने अर्थव्यवस्थाओं को पटरी पर लाने में बहुत मदद मिलेगी।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer