देश भर में चीनी उत्पादन घटा

उत्तर प्रदेश में चीनी का रिकॉर्ड उत्पादन
हमारे संवाददाता  
नई दिल्ली । देश भर में एक तरफ  इस वर्ष चीनी का उत्पादन लगभग 19 प्रतिशत घट गया है। वहीं भारत के सबसे बड़े राज्य उत्तर प्रदेश में अब तक चीनी का उत्पादन सबसे ऊंचे स्तर पर पहुंच चुका है और पूरे उत्तर प्रदेश में अब तक चीनी मिलें चालू है। 
निजी चीनी मिलों का संगठन इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) के ताजा आंकड़ों के तहत अब तक चीनी का उत्पादन एवं विपणन वर्ष 2020-21 ( अक्टूबर-सितम्बर) चीनी का उत्पादन 264.65 लाख टन हुआ है जो कि पिछले मौसम की तुलना में 61.54 लाख टन यानी 18.86 प्रतिशत कम है। वहीं उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन 122.28 लाख टन हो चुका है जो कि अब तक का सबसे ऊंचा स्तर है। इससे पहले उत्तर प्रदेश में 2017-18 के तहत चीनी का उत्पादन 120.45 लाख टन हुआ था। उत्तर प्रदेश में चीनी का उत्पादन का आगे नया रिकॉर्ड बनेगा क्योंकि 119 चीनी मिलों में से 46 चीनी मिलें अब तक चालू है। वहीं पूर्वी उत्तर प्रदेश की चीनी मिलें बंद हो चुकी है। वहीं उत्तर प्रदेश के मध्य हिस्से में 40 प्रतिशत चीनी मिलें चालू है। वहीं पश्चिम उत्तर प्रदेश में लगभग 70 प्रतिशत चीनी मिलों में चीनी का उत्पादन हो रहा है। 
इस्मा का अनुमान है कि चालू माह के अंत तक अधिकतर चीनी मिलों में गन्ने की पेराई बंद हो जाएगी। वहीं चुनिंदा चीनी मिलें अगले माह के प्रथम सप्ताह तक चल सकती है। वहीं कोरोना वायरस संक्रमण के चलते लाकडाउन से गुड़ और खांडसारी फैक्ट्रियां जल्द ही बंद हो गई। जिससे गन्ने की आपूर्ति चीनी मिलों में अब तक हो रही है। यद्यपि महाराष्ट्र में अब तक 60.87 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ है जो कि पिछले वर्ष के 107.15 लाख टन से 60.67 लाख टन कम है। वहीं कर्नाटक में 30 अप्रैल तक 33.82 लाख टन चीनी का उत्पादन हुआ जो कि पिछले वर्ष 43.25 लाख टन हुआ था। 

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer