शाक-सब्जी, खेरची किराना के भाव में तेजी

शाक-सब्जी, खेरची किराना के भाव में तेजी
हमारे संवददाता द्वारा 
इंदौर । इंदौर से देश का थोक व्यापार  भारी मात्रा में होता है और  अग्रणी रहा है । यहां का व्यापार जगत थोक कारोबार खेलने की मांग शासन-प्रशासन से कर रहा है । प्रशासन ने चौथे लॉक डाउन तक की देखरेख और सख्ती से यहां के व्यापार को खोलने की समीक्षा करना जारी रखा है और व्यापारियों को  आश्वस्त किया है कि  वायरस प्रभावना का जैसे ही कमी होगी व्यापार खोलने की अनुमति नियमो के तहत देने की समीक्षा कर , कर देंगे ।   दालो-दलहन का कारोबार थोक में नही हो रहा है । राज्य शासन ने इंदौर जिले से लगे गांव जहां भी ग्रीन ऐरिया है कारोबार करने की छूट नियमो के तहत जार की है ।  गांव के जानकारो से मिली फोन पर जानकारी के अनुसार गांव भी अभी दशहत में है । पुरा कारोबार कारोबारी खोलकर नही बैठे है । हांलाकि गांव की थोक मंडियो में गेहूं की तुलाई जारी थी ।  
इंदौर शहर के अंदर  प्रशासन नें कुछ दो -तीन प्रमुख कारोबारियो को माल बेचने की अनुमति दी है । गॉव के किराना कारोबारी हेतु खरीदी की अनुमति दी है । मगर कारोबारी शहर में नही आ पाने कारण  नही आ रहे है । नियम के तहत एक गांव से दूसरे गांव की तरफ और शहर की तरफ आवाजाही  आम गांववासियो की नही हो सकेगी । जो भी थोक कारोबार होगा वह फोन और पास-परमिट टांसपोर्टेशन के माध्यम से ही होगा । इधर नगर निगम ने शहरी क्षैत्र के परेशान लोगो हेतु निगम स्वयं ने परिवारो से फार्म भरकर कचरा गाडीवान को देने का कहा है । इससे परेशान परिवारो का निगम की अनुमति प्रदान दूकानो से फार्म की मांग अनुसार राशन पहुंचाया जा रहा है । इसी तरहा निगम ने सब्जियों को भी पहुचाने का काम हाथ मे ंले लिया है । निगम सब्जियों का बाकायदा सेनिटाईजर करके परिवार की मांग पर घर पहुंच सेवा एनजीओ के माध्यम से दे रहे है ।  
 म.प्र. के कुछ संभागो भोपाल, ग्वालियर, उज्जैन सहित ग्लोबल वायरस के प्रभाविततो के कारण रेड झोन एरिया में ल्रगातर पूरा डेढ-दो  माह समय व्यतीत कर चुका है । कोविड कार्यकाल का कोई फायदा उठा रहा है तो कोई जनता को फायदा दे रहा है । इस प्रकार की  दैनंदिनी इस दौर में चल रही है । तालाबंदी से दूर कुछ ग्रीन आरेंज इलाको में शुरू हुऐ व्यापार पर व्यापारी तो कुछ बिचौलिये फायदा उठा रहे है बताए जा रहे है । इंदौर शहर के आसपास के ग्रमीण इलाको में   आलू-प्याज 7-10 रू किलो है तो शहर में आकर भाव 20 रू किलो है । अन्य सब्जिया गाँव तरफ 15-20 रू किलो है तो शहर मे ये 50-100 रू किलो तक है । इंदौर शहर के ईलाको-ईलाको में में जिस तरह से कोविड प्रभावितो की संख्या बढती जा रही है उस अनुसार शासन ने अभी इंदौर क्षैत्र को 31 मई तक रेड झोन में ही रखा है ।। थोक मंडिया वायरस प्रकोप के चलते बंद पडी है और कई ट्रक,ट्राले मंडियों में खडे है । ट्रांसपोर्टरो का किराये की चिंता उन्हे है । कुछ छोटे किसानो के पास रखरखाव की कमी है । कृषकों के अनुसार इस वर्ष की बंपर फसल गेहूं और चना के कृषको को दाम मिलने की भी चिंता होना बताई जा रही थी । आर्थिक राजधानी इंदौर में सभी मूलभूत उपभोग सामग्रियों का थोक कारोबार भारी मात्राा में होता आया है । व्यापार जगत इस कोविड-19 के बढते केसेस के कारण परेशान होना बताया जा रहा है । कपडा,वस्त्र, उत्पादन , दाल-दलहन , इलेक्टानिक्स सभी क्षैत्र के कारोबार मे ंअग्रणी यहां का व्यापार जगत कारोबार शुरू होने की बाट जो ह रहा है । इसी बीच कुछ थो दलहन -दाल मंडी के व्यापारियो से बात करने पर सुनने में आया है कि सियागंज व्यापारियो ने कुछ दूरी अर्थात दो -दो दूकानो के बीच की अल्टरनेट व्यवस्था बनाकर दूकान कारोबार करने की मांग रखी है। 

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer