70 प्रतिशत पावरलूम्स में कामकाज शुरू

कोरोना के साथ देश कई मोर्चों पर लड़ रहा है। चीन की चालाकी, पाकिस्तान की नापाक हरकतें, नेपाल का दोगलापन और बांग्लादेश की बारी है। बीमारी तो बढ़ती जा रही है। लोगों में डर भी कम हो गया है। आर्थिक स्तर परिणाम अच्छे तो नहीं है और आने वाले समय में मुश्किलों का सामना करना ही होगा। रविवार को सूर्य ग्रहण हुआ। जब-जब ग्रहण आता है, उस समय राजनैतिक, आर्थिक, भौगोलिक, तकलीफे आती ही है। महाराष्ट्र में कोरोना का प्रभाव बढ़ता जा रहा है। अब जून तो गया, आगे जुलाई में क्या होगा? उसकी चिन्ता सता रही है।
मालेगांव पावरलूम मंडी में 60 से 70 प्रतिशत पावरलूम्स चालू हो गये हø। सूती कपड़े में पापलीन ठीक है, कैम्ब्रिक साधारण (सो-सो) ठीक है। रोटो और पीसी का कपड़ा नहीं के बराबर और वो भी बाजार भाव से कम में काम हो रहा है। दलालों से मिली जानकारी के अनुसार पीसी और रोटो चलाने वाले बुनकर पापलीन की ओर आ रहे हø। पेमेन्ट पोजिशन ठीक है। जिसकी अपनी खराब है। उसकी हमेशा खराब ही रहती है। मार्च का कपड़े का पेमेन्ट अब आ रहा है। मालेगांव में रंगीन साड़ी के लूम जो एक ही शिफ्ट में चलते हø, आधे से ज्यादा शुरू हो गये ह।
पापलीन और कैम्ब्रिक : सूती कपड़े में पापलीन का कपड़ा खुलते बाजारों में अच्छा व्यापार होने से काफी माल बिका। गोडाउन खाली होने लगा। दलाल कैलाश बाहेती ने बताया कि 60x50x36 और 60x50x39 में लंबा व्यापार हुआ है। कैम्ब्रिक में 56x52 में फुटकर व्यापार हो रहे हø। भावों में कोई विशेष उतार चढ़ाव नहीं है। टोकन वाइज माल ज्यादा बिकता है।
पीसी और रोटो : पीसी और रोटो का कपड़ा पिछड़ा हुआ सा लगता है। लेवाली का नितान्त अभाव है। दलालों से मिली जानकारी के अनुसार स्टाक बढ़ता जा रहा है। यार्न के भाव भी घटे है, लेकिन लेवाली नहीं है। दलाल राजू सोनार ने बताया कि कोई गणित काम नहीं आ रहा है। व्यापार में टिके रहना मुश्किल होते जा रहा है। बढ़ते पावरलूम, बढ़ता कपड़ा उत्पादन और लेवाली का अभाव तथा नहीं मिलता कपड़े का भाव। बुनकरों को बहुत कठिन दौर से निकलना पड़ रहा है।
भावताव : पापलीन 60x48x38 का 15.90 से 16.00 तथा 70x48 का 17.50। कैम्ब्रिक 56x52  का 16.50। पीसी 70x58 का 10.20 से 11.00 तक और रोटो 5.700 किलो 6.10 तथा 52 किलो 5.70।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer