नारियल में तेजी : शक्कर में मंदी, लालमिर्च में ग्राहकी कमजोर

नारियल में तेजी : शक्कर में मंदी, लालमिर्च में ग्राहकी कमजोर
हमारे संवाददाता
इंदौर ।  स्थानीय सियागंज थोक किराना मंडी में कीचन मसाला सामग्रियो पर भारी उंचं भावो पर गत् हप्ते ग्राहकी  मांग कमजोर  रही है । पूर्व के वर्षो में  अच्छी वर्षा होती है तो कृषि उपज बढने  की संभावना बन जाती थी तो भाव घटने के अनुमान लगने लगते थे।  अब ऐसा नही है अधिक पैदावार की उम्मीद में अधिक तेजी के सटटे् उभरते है और अधिक खपत की सामग्रियों के भाव तेजी से बढने लगते है।  कीचन मसाला साग्रियो पर भारी महंगाई की उंचाई अंतगोत्वा दिखने लगी है । गत् वर्ष नारियल के भाव भारी तेज हों गये थे । सावन की मांग और राखी त्योहार में अधिक मांग रहती आई होने से वर्तमान में भाव  गत् हप्ते तक 200 रू बढते हुऐ  250 भरती का नारियल भाव  2700  रू तक होना बताया गया । आगे कोविड काल में और  वैवाहिक सीजन नही होने से मांग नही रहगी इससे मुनाफा वसूली तेजी होना बताई जा रही है ।  हांलाकि नारियल में भरावा अधिक है । गन्ना उत्पादन  गत् वर्ष भी अच्छा था और इस वर्ष भी भारी उत्पादन में होना बताया जा रहा है । इस वर्ष हांलाकि शक्कर के भाव 3100 रू से 3500 रू पार हो गये है । उसी रेशो में गन्ने के भाव भी किसानो को उपज रहे होने से पैदावार भी बढी है । इससे लगता है कि शक्कर का उत्पादन भी इस वर्ष गत् वर्ष के सामान्य उत्पादन से अधिक ही होगा । अत: भाव बढने की धारणा नही बताई जा रही है । गत् हप्ते  शक्कर पर थोक मंडी भाव 3480-3520 रू तक रहा बताया गया है । मंडी में  12 गाडियो की औसत आवक का होना बताया गया ।  जीरा का इस वर्ष भारी उत्पादन हुआ है मगर स्टाकिस्टो  के भरावे ने और सटटे् ने अधिक उंचे भावो 250 रू प्रति किलो से नीचे 190 रू भावो ने अधिक मंदी नही आने दी है । निर्यात भी हो रहा है । अत: भाव में कमी की धारणा नही है । गत् हप्ते जीरा भाव  भाव राजस्थान जीरा 155 से 175 रू तक और उंझा जीरा मध्यम से बेस्ट का भाव 170 से 195 रू तक बताया गया ।  

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer