किसान उड़ान योजना की शीघ्र होगी शुरुआत

हवाई जहाज से देश के बड़े शहरों में पहुंचेंगी फल, फूल व सब्जियां
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । कृषि क्षेत्र में कानून सुधार अब जमीनी स्तर पर तेजी से दिखाई देने लगा है।जिसके तहत देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से की मंडियों में कृषि जिंस पहुंचाने की रफ्तार तेज हो गई है।ऐसे में किसान ट्रेन की सफलता के बाद अब केद्र सरकार शीघ्र ही कृषि उपज को किसान उड़ान योजना कोग पंख लगाने जा रही है।इससे हवाई जहाज से ताजा फल,फूल और सब्जियों को बड़े शहरों तक बहुत जल्द पहुचाने में सफलता मिल जाएगी।जिससे कृषि जिंसों के निर्यात में भी तेजी का रुख बनेगा।
दरअसल केद्र सरकार की तरफ से शीघ्र ही किसान उड़ान योजना शुरु करने की तैयारी में है।ऐसे में वायू मार्ग से विभिन्न राज्यों व शहरों को जोड़ने के लिए क्षेत्रीय संपर्क के तहत उड़ान योजना चल रही है।इसमें अब तक 250 से अधिक छोटे शहरों को उड़ान योजना से जोड़ दिया गया है।इनके बीच विमान संचालित करने की योजना शुरु कर दी गई है।ऐसे में कई मार्गों पर विमानों की आवाजाही शुरु भी हो गई है।इसी के साथ इन हवाई अड्डों से अब किसान उड़ान के तहत कार्ग़ों विमान भी उड़ान भर सकते हø।इसमें किसानों को जल्द खराब होने वाले बहुमूल्य उत्पाद छोटे शहरों से बड़े शहरों तक पहुंचाए जा सकते हø।वैसे तो चालू वित्त वर्ष 2020-21 के आम बजट को पेश करते हुए केद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने किसान उड़ान की योजना की घोषणा की थी।ऐसे में किसान  ट्रेन और किसान उड़ान जैसी योजना शुरु करने से पहले केद्र सरकार ने कृषि क्षेत्र में क्रांतिकारी बदलाव कर दिए हø।इससे कृषि बाजार के लिए एक देश-एक बाजार और एक कानून की सोच के तहत केद्र सरकार ने कृषि उपज की किसी भी मंडी में अपने हिसाब से बेचने की कानूनी मान्यzिंा प्रदान की दी है।जिससे राज्यों के मंडी कानून की इसकी राह में रोड़ा नहीं बन सकते हø।उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री कृषि उड़ान योजना के तहत संपूर्ण भारत में किसान अपनी फसलों को सुगत परिवहन के फलस्वरुप इसकरा सही मूल्य प्राप्त कर सकेंगे।कृषि उड़ान योजना किसानों के लिए 16 सूत्रीय कार्ययोजना का एक हिस्सा है।इसका ऐलान आम बजट में शामिल किया गया था जिस पर शीघ्र ही अमल की तैयारी है।वहीं किसान ट्रेन की पहली शुरुआत 7 अगस्त 2020 को महाराष्ट्र और बिहार के बीच हुई थी।जिसके प्रतिफल उत्साहजनक रहे हø।जिसको लेकर भारतीय रेलवे और केद्रीय कृषि मंत्रालय के संयुक्त प्रयास से 9 सितम्बर 2020 कािz दूसरी किसान ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई है।यह ट्रेन आन्ध्र प्रदेश के अनंतपुर से दिल्ली तक चलेगी।यह लगभग 2500 किलोमीटर की दूरी तय करने वाली इन ट्रेन के रास्ते में जितने भी कृषि उत्पाद वाले राज्य व स्थल होंगे जिसका उन्हें लाभ मिलेगा।पहले किसान ट्रेन पश्चिम से पूरब कशे जोड़ रही है वहे दूसरी ट्रेन दक्षिण से उत्तर को जोड़ेगी।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer