तिलहन उत्पादन में होगी कमी

वाशिंग्टन। अमरीकी कृषि विभाग (यूएसडीए) ने वर्ष2020-21के लिए जारी अपनी ताजा रिपोर्ट में भारत में 392.42 लाख टन तिलहन पैदा होने का अनुमान जताया है। यह उत्पादन अनुमान सितंबर में 393.42 लाख टन था। भारत में वर्ष 2019-20 में 366.89 लाख टन,वर्ष 2018-19 में यह पैदावार 355.10 लाख टन थी।'
यूएसडीए रिपोर्ट के अनुसार भारत में वर्ष2020-21में कॉटन सीड का उत्पादन 127.37 लाख टन,मूंगफली की उपज 68 लाख टन के बजाय 67 लाख टन,रेपसीड का उत्पादन 76.50 लाख टन,सोयाबीन की पैदावार 112 लाख टन,सनफ्लावर की पैदावार 1.85 लाख टन एवं अन्य तिलहन की उपज7.70लाख टन रहने का अनुमान है।वर्ष2019-20में कॉटन सीड का उत्पादन 125.24 लाख टन,मूंगफली की उपज 62.55 लाख टन,रेपसीड का उत्पादन 77 लाख टन,सोयाबीन की पैदावार 93 लाख टन,सनफ्लावर की पैदावार 1.40 लाख टन एवं अन्य तिलहन की उपज7.70लाख टन रही।'
यूएसडीए रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में वर्ष2020-21में कॉटन सीड ऑयल की घरेलू खपत 13.95 लाख टन,पाम ऑयल की घरेलू खपत 89.30 लाख टन (सितंबर में यह आंकलन 94.30 लाख टन था),रेपसीड 27.30 लाख टन,सोया तेल 50.26 लाख टन के बजाय 49.25 लाख टन,मूंगफली तेल की खपत 11.50 लाख टन,सनफ्लावर ऑयल की खपत 28 लाख टन एवं अन्य तेलों की खपत 6.19 लाख टन रहने की संभावना है। भारत में वर्ष2019-20में कॉटन सीड ऑयल की घरेलू खपत 13.65 लाख टन,पाम ऑयल की घरेलू खपत 88.10 लाख टन,रेपसीड 27.20 लाख टन,सोया तेल 49 लाख टन,मूंगफली तेल की खपत 11.65 लाख टन,सनफ्लावर ऑयल की खपत 28 लाख टन एवं अन्य तेलों की खपत 5.94 लाख टन रही।'
रिपोर्ट के मुताबिक भारत में वर्ष 2020-21 में पाम तेल का आयात अनुमान 87 लाख टन जताया गया है जो पिछले महीने 92 लाख टन आंका गया था। वर्ष2019-20में यह आयात 83 लाख टन आंका गया। इसी तरह भारत में सोयाबीन ऑयल का आयात वर्ष 2019-20 के 34 लाख टन की तुलना में वर्ष 2020-21 में 31.36 लाख टन,रेपसीड ऑयल का आयात 50 हजार टन के बजाय 58 हजार टन,सनफ्लावर ऑयल का आयात 27 लाख टन की तुलना में 26.12 लाख टन रहने का अनुमान है। जबकि,अन्य तेलों का आयात वर्ष2019-20के 1.20 लाख टन के मुकाबले 1.43 लाख टन रह सकता है। इस तरह कुल तेल आयात वर्ष 2020-21 में 146.49 लाख टन रहने का अनुमान है जो वर्ष 2019-20 के लिए 145.73 लाख टन आंका गया। यह आयात वर्ष 2018-19 में 152.50 लाख टन था।

© 2020 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer