वैश्विक बाजार में बढ़ेगा `मेक इन इंडिया'' लैपटॉप एवं टैबलेट का दबदबा

लैपटॉप व टैबलेट के उत्पादन व निर्यात पर प्रोत्साहन देने की योजना
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । केद्र सरकार की तरफ से वैश्विक बाजार में मेड इन इंडिया लैपटॉप की पहुंच बढाने पर काम कर रही है।जिसके घ्ैण् केद्र सरकार लैपटॉप व टैबलेट के उत्पादन एवं निर्यात पर इंसेटिव देने की योजना बना रही है।
दरअसल इस समय भारत में लैपटॉप,टैबलेट और डेस्कटॉप का उत्पादन सिर्फ 1.97 अरब डॉलर का है।वहीं भारत में 2019 में इन वस्तुओं का 4.21 अरब डॉलर का आयात किया गया था।जिसमें से 87 प्रतिशत आयात चीन से किया गया था। वहीं भारत में पांच वर्ष पहले लैपटॉप,टैबलेट व डेस्कटॉप का चीन से 2.83 अरब डॉलर का आयात किया गया था जो कि पिछले वर्ष 3.65 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया था।वहीं अगले वर्ष मार्च तक यह आयात 4.35 अरब डॉलर होने का अनुमान है।जिसको लेकर केद्रीय आईटी व इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि लैपटॉप व टैबलेट को लेकर हुए टैरिफ समझौते के चलते इन वस्तुओं के आयात शुल्क को आसानी से नहीं बढाया जा सकता है।यद्यपि लागत कम करके इनकी घरेलू मैन्यूफैक्चरिंग को प्रोत्साहित किया जा सकता है।वहीं घरेलू खपत के साथ साथ इन उत्पादों के निर्यात प्रोत्साहन के लिए भी इंसेंटिव पर विचार किया जा सकता है तभी घरेलू स्तर पर इन उत्पादों की मैन्यूफैक्चरिंग को बढावा मिलेगा।इस समय चीन और वियतनाम की तुलना में भारत में लैपटॉप व टैबलेट की निर्माण लागत 10-20 प्रतिशत अधिक है।ऐसे अंतर को कम करके ही इन उत्पादों की मैन्यूफैक्चरिंग को बढाया जा सकता है,,वहीं लैपटॉप व टैबलेट के वैश्विक बाजार में 60 प्रतिशत से अधिक की हिस्सेदारी रखने वाले चीन में इन दिनों श्रमिक लगात भारत की तुलना में काफी अधिक हो गई है।वहीं इन उत्पादों को लेकर चीन की नकल नीति और चीन के व्यापारिक धोखाधड़ी से यूरोप के देश सामान खरीदारी के लिए विकल्प की तलाश कर रहे हø। जिसको लेकर इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन (आइसीईए) के चेयरमैन पंकज महेंद्रू ने कहा कि भारत के पास अभी इलेक्ट्रॉनिक्स की वैश्विक सप्लाई चेन का प्रमुख हिस्शि बनने का सुनहरा अवसर है बहरहाल सिर्फ मोबाइल फोन मैन्यूफैक्चरिंग पर निर्भर रहकर ऐसा संभव नहीं है।भारत में दुनिया भर के लिए निर्माण करके लैपटॉप,टैबलेट और डेस्कटॉप मैन्यूफैक्चरिंग वैल्यू को 2025 तक 100 अरब डॉलर तक ले लाया जा सकता है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer