बेहतर मांग से मूंगफली का निर्यात लगातार बढ़ा

बेहतर मांग से मूंगफली का निर्यात लगातार बढ़ा
मुंबई। अंतरराष्ट्रीय बाजार में मांग अच्छी होने से भारत का मूंगफली निर्यात लगातार बढ़ रहा है एवं यह मात्रानुसार 19 फीसदी बढ़ा है। एग्रीकल्चरल एंड प्रोसेस्ड फूड प्रॉडक्टस एक्सपोर्ट डेवलपमेंट अथॉरिटी (एपीडा) के मुताबिक अप्रैल से सितंबर 2020 के दौरान मूंगफली निर्यात 1.9 लाख टन रही जो पिछले वित्त वर्ष के समान समय में 1.6 लाख टन थी। 
एपीडा के मुताबिक अप्रैल से सितंबर के दौरान हुए निर्यात में गुजरात की हिस्सेदारी तकरीबन 55 फीसदी रही। रुपए के संदर्भ में यह निर्यात 33 फीसदी बढ़ा। वर्ष 2020-21 के पहले छह महीनों में निर्यात 1776 करोड़ रुपए पहुंच गया जो पिछले समान समय में 1328 करोड़ रुपए था। भारतीय मूंगफली का सबसे ज्यादा निर्यात इंडोनेशिया, वियतनाम, मलेशिया, फिलीपिंस, थाईलैंड और चीन को हुआ। 
सौराष्ट्र ऑयल मिर्ल्स एसोसिएशन (सोमा) के पूर्व प्रेसीडेंट समीर शाह का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारतीय मूंगफली की मांग अच्छी है। चीन में मूंगफली की उपज घटने से नियमित खरीददारों के अलावा अन्य आयातक भी भारत की ओर मुड़े हैं। इस वजह से हमारा मूंगफली निर्यात बढ़ा है। चीन में इस साल मूंगफली का उत्पादन 40 लाख टन से कम होने की संभावना है जिसकी वजह से चीन से हमें काफी ऑर्डर मिले हैं। इसके अलावा चीन से मूंगफली तेल के भी ऑर्डर बड़ी मात्रा में मिले हैं। 
शाह का कहना है कि मूंगफली एवं मूंगफली तेल के निर्यात ऑर्डर में बढ़ोतरी से गुजरात को फायदा हुआ है क्योंकि राज्य में इस साल मूंगफली का रिकॉर्ड 35 लाख टन उत्पादन हुआ है। वर्ष 2019-20 में गुजरात से मूंगफली का निर्यात 4.7 लाख टन रहा जो वर्ष 2018-19 में तीन लाख टन था। इस तरह मूगफली निर्यात में 57 फीसदी की बढ़ोतरी हुई।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer