मूलजी जेठा मार्केट में 31 मार्च तक दुकानों की बिक्री को नहीं मिलेगी एनओसी

स्वदेशी मार्केट में रिपेयरिंग चलेगी तीन वर्ष
देवचंद छेड़ा
मुंबई। कोरोना महामारी और 9 महीने के लॉकडाउन ने मुंबई के सी वार्ड के आठ कपड़ा बाजारों का महत्व और कीमत घटा दिया है। कपड़ा बाजार के 10% व्यापारियों ने कपड़े का कारोबार बंद कर दिया है। अन्य 20% व्यापारी कपड़ा बाजार छोड़कर लोअर पटेल-दादर, हिंदमाता, अंधेरी, भिवंडी, सूरत, अहमदाबाद चले गए हø।
कपड़ा बाजार के 50% व्यापारी 60 से 65 वर्ष से अधिक उम्र के हø, जो अब कोरोना के डर से कारोबार से आउट हो गए हø। इस वर्ग ने कपड़े का व्यापार बंद कर दुकान किराए पर देने या बेचने के लिए निकाला है। इससे मार्केट में किराए पर दी जाने वाली दुकानों की आपूर्ति बढ़ गई है जिससे दुकानों का किराया 30 से 40% घटा है।
कपड़ा का कारोबार छोड़ देने वाला बड़ा वर्ग शेयर बाजार की ओर मुड़ा है। इससे कोरोना काल में शेयर बाजार में 10 लाख से अधिक डीमेट खाता खुल गया है। बाकी के वर्ग ने खाने-पीने या नास्ता की दुकानें की है।
20% व्यापारी दूसरी जगह हø। इसमें से ज्यादातर लोअर परेल से दादर के बीच स्थित गार्म़ेंट इकाइयों के निकट गए हø। चूड़ीदार के व्यापारी ज्यादा इस स्थान पर गए हø।
150 वर्ष पुरानी मूलजी जेठा क्लाथ मार्केट की स्वामित्व कंपनी-न्यू पीस गुड्स बाजार कंपनी लि. के चेयरमैन मुकेश देसाई ने कहा कि इस बाजार की दुकानें बेचने की मंजूरी 31 मार्च, 2021 तक नहीं देने वाले हø। फिर भी किसी को दुकान बेचनी हो तो वह हमें सरेंडर कर सकता है।
मुंबई टेक्सटाइल्स मर्चन्ट्स महाजन के प्रमुख कनुभाई नरसाणा ने कहा कि इस समय मार्केट की 60% दुकानें खुलती है। मूलजी जेठा मार्केट की 1000 दुकानों में से 400 दुकानों को अभी किराएदार नहीं मिलें हø। ऊपर मालिया 80% खाली पड़े हø। लोकल ट्रेन आम जनता के लिए चालू होने और कोरोना की वैक्सिन आ जाने के बाद मार्केट की सभी दुकानें खुल जाने की धारणा है।
बाम्बे स्वदेशी मार्केट बार्ड के प्रमुख गीतेश उणटकर ने कहा कि स्वदेशी मार्केट के 20% व्यापारी दूसरी जगह चले गए हø। मार्केट का अंदर से 5 करोड़ रु. की लागत से रिपेयरिंग कार्य शुरू किया गया है। यह काम 3 वर्ष चलेगा। इसके लिए स्वदेशी मार्केट रिपेयर किराएदार मंडल की स्थापना की गई है।
मंगलदास क्लॉथ मार्केट के प्रमुख सुरेद्र वोराणी ने कहा कि हमारे मार्केट की सभी दुकानें चालू हø और रिटेल ग्राहकी यहां अच्छी रहती हø।
मुंबई टेक्सटाइल मर्चन्ट्स महाजन ने बोरीवली से प्रिन्सेस स्ट्रीट तक निजी बस सेवा `न मुनाफा-न घाटा' आधार पर चलायी थी, लेकिन अब 1 जनवरी से बस सेवा बंद कर दी है। किसी तरह से रेलवे का पास निकाल लेने से बस के यात्री घट गए।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer