कृषि कानूनों से जुड़ी सभी अर्जियों पर सुप्रीम कोर्ट में 11 जनवरी को सुनवाई

हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । नए कृषि कानूनों से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन को लेकर चिंता जाहिर की है।जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे ने 6 जनवरी 2021 को कहा कि हम हालात को समझते हø और हम चाहते हø कि किसानों के मसले बातचीत के जरिए सुलझाया जाए।ऐसे में नए कृषि कानूनों से जुड़ी सभी अर्जियों पर 11 जनवरी 2021 को सुनवाई की जाएगी।वहीं नए कृषि कानूनों को रद्द करने के लिए एक और याचिका दाखिल की गई।जिसको लेकर पीठ ने याचिकाकर्ता एमएल शर्मा से पूछा कि आपको पता है कि सुप्रीम कोर्ट में किसान प्रदर्शन को लेकर क्या चल रहा है।जिस पर याचिकाकर्ता शर्मा ने कहा कि मैनें संशोधित याचिका दाखिल कर दी है और मेरा मानना है कि केद्र को यह कानून बनाने का हक नहीं है। 
सुप्रीम कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से पूछा कि किसानों के प्रदर्शन पर कब सुनवाई होनी है।जिसको लेकर मेहता ने कहा कि अभी तारीख तय नहीं हुईढ है और यह भी कहा कि कानूनों को चुनौती देने वाली अर्जियों के साथ इसे न सुनें क्योंकि यदि सरकार कानूनों पर जवाब देगी तो किसानों क zसाथ वार्ता बंद हो सकती है।इस पर मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि हम दूसरे मामलों के साथ इसलिए सुनना चाहते हø क्योंकि  प्रदर्शन को लेकर अभी तक हल नहीं निकला हे।पीठ ने कहा कि यदि 11 जनवरी 2021 को अटॉर्नी जनरल मामले को टालने की मांग रखते हø तो सुनवाई टाल दी जाएगी।जिस पर अटॉर्नी जनरल के के वेनुगोपाल ने कहा कि इस बात की अच्छी संभावना है कि पार्टियां निकट भविष्य में किसी नतीजे पर पहुंच सकती है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer