सूरत में 40 से अधिक प्रोसेसिंग हाउसों ने गार्मेन्ट फैब्रिक का उत्पादन किया शुरू

सूरत में 40 से अधिक प्रोसेसिंग हाउसों ने गार्मेन्ट फैब्रिक का उत्पादन किया शुरू
दैनिक एक करोड़ मीटर के आसपास गार्मेन्ट फैब्रिक का प्रोसेसिंग काम पुरजोर में
सूरत के उद्यमियों द्वारा डेनिम के करोड़ों मीटर कपड़े का उत्पादन
मेनमेड फैब्रिक के उत्पादन में सूरत देशभर में प्रख्यात है। देश का 80 प्र. श. मेनमेड फैब्रिक का उत्पादन सूरत करता है तथा अधिकांश कपड़ा कपड़ा साड़ी-ड्रेस और लहंगा में उपयोग किया जाता है। हालांकि पिछले वर्ष़ों से रेडीमेड गार्मेन्ट के फैब्रिक का उत्पादन लेने की दिशा में कपड़ा उद्योग के उद्यमियों ने विस्तार शुरू किया है। आज शहर के 40 जितने प्रोसेसिंग हाउसों में रेडीमेड गार्मेन्ट के लिए फैब्रिक का प्रोसेसिंग काम पुरजोर में चालू है। यह कहना उचित होगा कि अनुमानत: एक करोड़ मीटर के आसपास रेडीमेड गार्मेन्ट कपड़े का उत्पादन टेक्सटाइल सिटी सूरत में होता है।
सूरत में दैनिक साढ़े चार करोड़ मीटर कपड़े का उत्पादन लेने की क्षमता है। फिलहाल दैनिक ढ़ाई से तीन करोड़ मीटर कपड़े का उत्पादन होता है। कोरोनाकाल में उत्पादन घटकर एक से डेढ़ करोड़ मीटर पर पहुंच गया है। जिसमें चालू महीने से सुधार हुआ है। साड़ी-ड्रेस के लिए कपड़े की डाइंग और प्रोसेसिंग का करते 450 से अधिक प्रोसेसिंग हाउस अब रेडीमेड गार्मेन्ट के लिए कपड़े के प्रोसेसिंग काम करने लगे हø। खास कर बालकों के लिए किड्सवेयर और महिलाओं के रेडीमेड आउटफिट के लिए गार्मेन्ट के फैब्रिक के प्रोसेसिंग का काम 40 से अधिक हाउसों में होने लगा है।
दक्षिण गुजरात टेक्सटाइल प्रोसेसिंग एसो. के प्रमुख जितेद्र वखारिया का कहना है कि पिछले दो वर्ष से रेडीमेड गार्मेन्ट फैब्रिक का प्रोसेसिंग काम बढ़ा है। वैसे भी अब महिलाओं में साड़ी-ड्रेस का स्थान लøगिंग्स और फैशनेबल टॉप अन्य आउटलेट ने ले लिया है। जिसके कारम उद्यमियों को अन्य दिशा में विचार करने की जरूरत पड़ी है। प्रोसेसिंग हाउसों ने किड्सवेयर, लेडीज वेयर का करोड़ों मीटर फैब्रिक का कामकाज बढ़ाया है। जिसका लाभ सूरत के कपड़ा उद्योग को होगा। सूरत में डेनिम का उत्पादन लेने वाले सात से अधिक यूनिट हø। आगामी दिवसों में सूरत डेनिम गार्मेन्ट्स के फैब्रिक उत्पादन में लेने में शीर्ष पर रहेगा ऐसी आशा है।
आर. कोठारी एजेंसी के राजेश कोठारी का कहना है कि सूरत रेडीमेड गार्मेन्ट को हब बनाने की दिशा में तेजी से प्रस्थापित करने की दिशा में आगे बढ़ रहा है। प्रदर्शनी में भाग लेने वाले व्यापारियों की पूछताछ के आधार पर पता चलता है कि सूरत अब मात्र साड़ी-ड्रेस के उत्पादन तक ही सीमित नहीं है। लेडीज वेयर, किड्सवेयर के थोक उत्पादन के लिए सूरत की तरफ बड़े पैमाने पर ब्रान्डेड आउटफिट उत्पादक नजर दौड़ा रहे हø। जो सूरत के कपड़ा उद्योग के विकास के लिए उल्लेखनीय है।
उल्लेखनीय है कि पिछले दो वर्ष में कपड़ा उद्योग के उद्यमियों ने टफ जैसी योजनाओं का लाभ लेकर एयरजेट, रेपियर जेकार्ड, वॉटरजेट जैसी अत्याधुनिक मशीनरी बैठाकर क्वालिटी उत्पादन लेने की दिशा में पहल की है। जिसके कारण स्थानीय उत्पादकों को निर्यात के लिए बड़ा आर्डर मिल रहा है। कई ऐसे कपड़ा उद्यमी हø जिनका मानना है कि टफ जैसी योजनाओं में फाइलों का हल जल्दी हो तो विस्तार के मार्ग से सूरत फैब्रिक की दुनिया के शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता रखता है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer