छठे दौर की स्पेक्ट्रम नीलामी पहली मार्च से होगी शुरू

छठे दौर की स्पेक्ट्रम नीलामी पहली मार्च से होगी शुरू
5 फरवरी तक कंपनियों को दाखिल करना होगा आवेदन

हमारे संवाददाता

नई दिल्ली । छठे दौर की स्पेक्ट्रम नीलामी पहली मार्च से शुरु होगी।जिसको लेकर केद्रीय दूरसंचार विभाग (डीओटी) ने एक सूचना जारी कर इसकी जानकारी दी है।जिसके तहत लगभग 3.92 लाख करोड़ रुपए मूल्य के स्पेक्ट्रम नीलामी होनी है।जिसको लेकर भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) द्वारा स्पेक्ट्रम के आधार मूल्य की गणना और अनुशंसाओं के दो वर्ष बाद यह नीलामी होगी।इससे पहले स्पेक्ट्रम नीलामी चार वर्ष पहले हुई थी।

दरअसल केद्रीय दूरसंचार विभाग 12 जनवरी 2021 को नीलामी पूर्व कांफ्रेंस आयोजित करेगा।जिसमें टेलीकॉम कंपनियां स्पेक्ट्रम नीलामी से संबंधित नवीनतम सूचना से जुड़ा हुआ कोई भी स्पष्टीकरण 28 जनवरी 2021 तक मांग सकती है।जिसको लेकर टेलीकॉम कंपनियों को नीलामी के लिए आवेदन 5 फरवरी 2021 तक दाखिल करना होगा।जिसके बाद पहली मार्च 2021 से स्पेक्ट्रम की नीलामी की जाएगी।हालांकि केद्रीय कैबिनेट ने पिछले वर्ष 17 दिसम्बर को अगले दौर की स्पेक्ट्रम नीलामी की मंजूरी दी थभ।जिसके तहत 2,251.25 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी होनी है जिसका आधार मूल्य 3.92 लाख करोड़ रुपए रखा गया है।यह नीलामी सात फ्रीक्वेंसी बøड्स में होगी।जिनमें 700 मेगाहर्ट्ज,800 मेगाहर्ट्ज,900 मेगाहर्ट्ज, 2100 मेगाहर्ट्ज,2300 मेगाहर्ट्ज और 2500 मेगाहर्ट्ज शामिल है।जिसको लेकर ट्राई ने 3,300-3,600 मेगाहर्ट्ज बøड में भी स्पेक्ट्रम नीलामी की अनुशंसा की थी बहरहाल इनकी नीलामी अगले दौर में की जाएगी।जिसको लेकर उद्योग जगत ने इस बøड की पहचान 5जी सेवाओं के लिए की है।इस नीलामी के तहत 700 मेगाहर्ट्ज बøक के लिए बोली लगाने वाली कंपनियों को राष्ट्रीय सतर पर कम से कम 32,905 करोड़ रुपए का खर्च करना होगा।इस बैंड में सिग्नल का ट्रांसमिशन 2,100 मेगाहर्ट्ज बøड की तुलना में तीन गुना गति से होता है।जिसको लेकर रेटिंग एजेंसी इकरा की तरफ से कहा गया है कि इस बैंड के लिए खरीदारों की संख्या बेहद कम रहने वाली है।जिसको लेकर यह एजेंसी यह भी मानती है है कि बोली की राशि 60,000 करोड़ रुपए तक रह सकती है।जिसको लेकर केद्र सरकार ने 700,800 व 2,300 मेगाहर्ट्ज बøड्स के स्पेक्ट्रम को देश भर के सभी 22 सर्किल के लिए उपलब्ध रखा है।वहीं 1800 मेगाहर्ट्ज बøड 21 सर्किल के लिए उपलब्ध है।ऐसे में कंपनियों को 900 व 2,100 मेगाहर्ट्ज बøड्स में स्पेक्ट्रम 19 सर्किल के लिए मिलेंगे।वहीं 2,500 मेगाहर्ट्ज बøड्स सिर्फ 12 सर्किल के लिए उपलब्ध होंगे।वहीं जो कंपनियां एकमुश्त पूर्ण भुगतान करने को इच्छक़ होंगे उन्हें नतीजे घोषित होने के दस दिनों के भीतर ऐसा करना होगा।यदि वह आंशिक भुगतान का विकल्प चुनती है तो 1,800 मेगाहर्ट्ज,2,00 मेगाहर्ट्ज,2,300 मेगाहर्ट्ज और 2,500 मेगाहर्ट्ज बøड्स के लिए 50 प्रतिशत राशि का भुगतान इसी अवधि में कर देना होगा।



© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer