गार्म़ेंट फैब्रिक उत्पादकों - सप्लायर्स की हालत भी पतली

स्प्रिंग-समर का स्टाक पड़ा घर में विंटर की नहीं हो रही तैयारी
मुंबई। फैब्रिक के उत्पादन एवं इसके मार्केटिंग के हर क्षेत्र पर वर्तमान के समय की भयंकर मार पड़ रही है। ऐसा ही एक क्षेत्र है। गार्म़ेंट फैब्रिक का जिसमें वर्ष के दो सीजन चलते हø, स्पिंग समर और आरंभ विंटर। वर्तमान के स्प्रिंग समर सीजन हेतु गार्म़ेंट फैब्रिक में डील करनेवाले व्यापारियों ने दिपावली पश्चात से ही नए डेवलपमेन्ट्स प्रारंभ कर दिए थे, साथ ही वर्ष 2021 के प्रारंभ में मुंबई में गार्म़ेंट फैब्रिक सप्लायर्स का एक्जिविशन भी हुआ था यहां देशभर से सिलेक्टेड गार्म़ेंटर्स आए भी थे, डिस्प्ले करनेवाली पार्टिसिपेंट्स को माल की बुकिंग भी प्राप्त हुई, साथ ही देशभर की गार्म़ेंट उत्पादक मंडियों में डील करनेवाले सप्लायर्स ने अपनी मार्केटिंग टीम्स को भेजकर माल की बुकिंग भी कर ली और आर्डर का आधा माल सप्लाई भी हो गया, फिर लग गया लॉकडाउन जिसके चलते प्रोडक्शन एवं डाइúग हाउसों में माल फंस गया घर का रेडी स्टाक घर में ही रह गया, तथा देशावरी गार्म़ेंट लाख मंडियों में बकाया रकम बकाया ही रह गई और फिर एक बार सारी गतिविधियां थम गई।
अप्रैल-मई माह से गार्म़ेंट फैब्रिक उत्पादक द्वारा आरंभ विंटर सीजन की तैयारियां प्रारंभ कर दी जाती है। किन्तु इस बार ऐसा कुछ नजर नहीं आ रहा, क्योंकि स्प्रिंग-समर सीजन का रिजल्ट कुछ अच्छा ना आने से इसका असर आरंभ - विंटर पर पड़ रहा है। फिलहाल कपड़े का उत्पादन ना के बराबर ही है। 

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer