दिल्ली का कपडा-परिधान कारोबार ठप

दिल्ली का कपडा-परिधान कारोबार ठप
व्यापारियों पर प्रतिष्ठान के किराया, टैक्स, ब्याज चुकाने हेतु बढ़ेगा आर्थिक बोझ
हमारे संवाददाता
नई  दिल्ली । दिल्ली कोरोना महामारी की दूसरी लहर काफी भयावह है.जिसको लेकर दिल्ली में संपूर्ण करफ्यू लागू है. जिससे दिल्ली का थोक कपड़ा-परिधान व्यापार ठप हो रखा वहै.ऐसे में थोक कपड़ा-परिधान के व्यापारियों को अपने प्रतिष्ठानों के किराए, विभिन्न प्रकार के टैक्स, कर्ज के ब्याज,मजदूरों के वेतन आदि की जिम्मेदारी है.जिससे कपड़ा-परिधान के समक्ष आर्थिक बोझा बढ रहा है.जिससे कपड़ा-परिधान के कारोबार को लेकर आगे के हालात कठिनाई भरा हो सकता है.जिसको लेकर केंद्र व राज्य सरकार की तरफ से कपड़ा-परिधान के व्यापारियों को टैक्सेशन में राहत दी जाए और अन्य आर्थिक प्रोत्साहन दिया जाए ताकि आगे कारोबार संचालित करने में सहूलियत हो सकेगी. 
 दरअसल कोरोना महमारी की दूसरी लहर दिल्ली में काफी भयवह हो रखी है.जिसको लेकर दिल्ली सरकार की तरफ से सर्व प्रथम रात्रिकालीन कर्फ्यू,जिसके बाद वीकेंड कर्फ्यू जिसके उपरांत संपूर्ण कर्फ्यू 20  अप्रैल से लेकर  मई तक दो चरणो में लगाया जा चुका है.जिसके बावयूद दिल्ली में कोरोना संक्रमण का ग्राफ बढता ही ज रहा है जो कि आम और खास लोंगों के लिए चिंता की बात है.ऐसे में दिल्ली में कपडा-परिधान का थोक कारोबार ठप हो रखा है और थोक व्यापारियों के समक्ष आर्थिक बोझा बढ रहा है.ऐसे हालात के बावयूद कपड़ा-परिधान के थोक कारोबारी अपने और अपने परिवार को महफज रखने को लेकर घर में समय व्यतीत कर रहे हैं.वहीं दिल्ली में कोरोन संक्रमण के भयावह हालात है और जान और माल का भारी नुकसान हो रहा है.जिससे  कपड़ा-परिधान के व्यापारी काफी चिंतित हैं और ताजा हालात को देखते हुए दिल्ली में संपूर्ण कर्फ्यू की अवधि और बढाने की चाहत रखते हैं ताकि आम लोगों को कोरोना महमारी से बचाव हो सकेगा.हालांकि ऐसे गंभीर हलात को देखते हुए कपड़ा-परिधान का थोक कारोबार चरमरा रखा है और इससे उबरने में काफी समय लगेगा.ऐसे में दिल्ली के कपड़ा-परिधान के थोक व्यपारियों की तरफ से केंद्र और राज्य सरकार से गुजरिश की है कि  व्यापारियों को टैक्सेशन मद मंल राहत प्रदान किय जाए और अन्य आर्थिक प्रोत्साहन बहाल किया जिए ताकि कपडा-परिधान के व्यापारियों को सहूलियत मिल सकेगी और आगे हलात सधरने पर कपड़ा-परिधान के कारोबार को नए सिरे से संचलित कर सकेंगे.

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer