कपड़े एवं गार्म़ेंट की होलसेल सीजन लगभग समाप्त

अब नजरे टिकी रही त्योहारिक सीजन पर
मुंबई । मई माह का आधा महीना लगभग समाप्त हो चुका है। साथ ही रमजान की रिटेल ग्राहकी भी लगभग समाप्त हो रही है, और समर तथा लगन सीजन की बिक्री भी खतम जैसी ही है। और अब कपड़ा एवं गार्म़ेंट उत्पादकों द्वारा त्योहारी के सीजन की प्लानिंग की जा रही है।
मुंबई में लॉकडाउन की समय सीमा 15 मई तक की है और कपड़ा एवं गार्म़ेंट उद्योग भाई चाह रहे हø कि इस समय सीमा के पश्चात से सब कुछ अनलाक हो जाए, और हर कोई सावधानी बरतते हुए अपना-अपना कामकाज करे, और अपने कामकाज की गाड़ी को फिर से पटरी पर लाने की कोशिश करे।
इस समय कपड़ा एवं गार्म़ेंट बाजार में होलसेल ग्राहकी तो खतम हो ही जाती है तथा रिटेल ग्राहकी भी अपने समापन के दौर में ही होती है और जुलाई एवं अगस्त माह से जिस तरह कपड़े वाले सेल्स कान्फ्रेंस करते हø और गार्म़ेंट वाले एक्जिविशन में हिस्सा लेते हø, तो उन सभी गतिविधियों की तैयारी इसी समय से प्रारंभ हो जाती है। स्प्रिंग समर और आटम विंटर इन दोनों सीजन में फैब्रिक एवं गार्म़ेंट के टेस्ट अलग-अलग होते है और वर्ष 2021 के स्प्रिंग - समर सीजन के फेल हो जाने से इसका सीधा असर आटम विंटर की प्लानिंग पर पड़ रहा है, क्योंकि जैसा कि असर है कपड़ा एवं गार्मेंट का व्यवसाय पूर्णतया: उधारी का व्यवसाय है और सीजन फेल हो जाने से सभी की बकाया रकम ग्राहको में फंसी पडी है, अब पुरानी रकम प्राप्त हो तब नए डेवलपमेन्ट की तैयारी है और शहरों में तो शादी-विवाद ना के बराबर ही हुए हø, किंतु गांवों और देहातों में तो फिर भी किसी ना किसी तरह शादी-विवाह इस सीजन के दौरान हो ही रहे हø और इन्हीं गांवों एवं देहातों के ग्राहको पर कपड़ा गार्म़ेंट उद्योगवालों की उम्मीदे टिकी है, कि उनसे कुछ रकम घूम जाएगी तो आटम-विंटर की तैयारी में काफी मदद मिल जाएगी।
ऐसा देखा जाए तो कपड़े एवं गार्म़ेंट में होलसेल का सीजन तो समाप्त हो ही चुका है बस अब मुंबई के व्यापारी बाजार को अनलाक होने का इंतजार कर रहे हø। क्योंकि बाजार अनलाक होने के बाद तब जाकर महीने दो महीने में सब कुछ सामान्य होगा। साथ ही त्योहारो के सीजन की कुछ ना कुछ प्लानिंग कर पाएंगे।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer