कपड़ा-परिधान की ऑनलाइन बिक्री में इजाफा

कपड़ा-परिधान की ऑनलाइन बिक्री में इजाफा
कोरोना की दूसरी लहर की आक्रमकता से आम लोगों में दहशत
हमारे संवाददाता  
नई दिल्ली । देश के अधिकांशत राज्यों में  कोरोन महामारी की दूसरी लहर काफी आक्रमक है. जिसके तहत इस बार छोटे बच्चों और युवाओं को अपनी गिरफ्त में ले रही है.जिससे आम और खास लोगों में दहशत व्याप्त हो रखा है.जिसको लेकर देश की अधिकांशत राज्य सरकारों ने अपने अपने राज्यों में लाकडान लगा रखा है और सख्ती बढा रखी है.जिससे आम लोगों की कपड़ा और परिधान की खरीदी आनलाइन करने को प्राथमिकता देने शुरु कर दी है.जिससे कपड़ा और परिधान की आनलाइन खरीदी में इजाफा हो रखी है. जिससे स्वभाविक है कि ई-कामर्स कंपनिया उत्साहित हैं और कपड़ा परिधान के उत्पादन से लेकर विपणन तक पर विशेष फोकस कर रहे हैं ताकि आगे आनलाइन कारोबार को नई ऊंचाई पर पहुंचाया जा सकेगा.   
दरअसल कोरोना महामारी की दूसरी लहर डरावना भरी है और लोग अपने घर से कपड़ा और परिधान की खरीदी कै लिए नहीं निकल रहे हैं.ऐसे में विकल्प के तौर पर युवाओं क तरफ से कपड़ा और परिधानों क आनलाइन खरीदी को प्राथमिकता दे रहे हैं.जिसमें युवाओं को आनलाइन खरीदी में कंपनियों क तरफ से बतौर कैशबैक और डिस्काउंट आदि दी जा रहे है.जिससे कपड़ा और परिधान क आनलाइन खरीदी में भार इजाफा हो रखा है.जिससे आनलाइन कंपनिया काफी उत्साहित है और अपने कारोबार को बढावा देने को लेकर कपड़ा और परिधान के उत्पादन सै लेकर विपणन तक पर विशेष रुप से ध्यान केंद्रित कर रहे हैं.जिसके तहत उत्कृष्ट डिजाइनिंग के कपड़ा और परिधानों को न्यू कलर,लक,साईनिंग और फिनिशिंग को बारीकी पूर्वक ध्यान देते हैं ताकि उम्दा गणवत्ता युक्त कपड़ा और परिधान से ग्राहकों को आकर्षित किया जा सकेगा.जिससे ह सही मायने में कपड़ा परिधान के आनलाइन कारोबार को बढावा मिलेगा और कारोबार को नई ऊंचा पर पहूंचाने में मदद मिलेगी. जिससे एक तरफ आनलाइन कपड़ा और परिधान क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढेंगें वह केंद्र और राजय सरकारों को राजस्व की प्राप्ति होगी.जिससे देश क अर्थव्यवस्था में सुधार का मार्ग प्ररस्थ होगा.

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer