शक्कर में तेजी : नारियल में मंदी

शक्कर में तेजी : नारियल में मंदी
हमारे संवाददाता
स्थानीय सियागंज किराना मंडी मे आगे त्योंहार और लग्नसरा की ग्राहकी  बढने की संभावना से तेजी  किराना वस्तुओं पर तेजी रही । हांलाकि आगे ग्रामीण और शहरी  ग्राहकी दोनो में तेजी की आशा रखी जा रही है । गत् हप्ते, गोला, नारियल, खापरा  बुरा, बेसन, सभी पर तेजी रही । व्यापारिक क्षैत्रो से मिली खबर के अनुसार कोरोना वायरस का प्रभाव-डर  दोना है  मगर सतर्कता जनता द्वारा भी ली जा रही है । इससे बाजार की ग्राहकी बढती जा रही है । वायदा बाजार के उपरी भाव में फिर उलझा किराना व्यापार से कई जिंस में  एक वर्ष में नीचे से  उपर तक बढे भाव के बाद  मध्य या मध्य से उपर ही भाव बने हुए है  उद्योगपति-व्यापारी और वायदे का सटटा् बाजार फलफूल रहा है ।   किराना घटको में  थोक में कुछ में मंदी आती है  पर खेरची में जनता को इन पर राहत नही है । कई मसाला घटको का देश में अच्छा उत्पादन सामने खडा है । कोरोना लॉकडाउन का स्टॉक हल्दी,काली मिर्च, जीरा ,धनिया आदि के उत्पादन मंडियो भारी मात्राा में आ रहे बताए जा रहे है । इधर वायदे व्यापार में सटोरियों की चाले तेजी की बनती जा रही है इससे हाजिर बाजार भी उंचा बना हुआ है बताया जा रहा है । । हल्दी में इस वर्ष उत्पादक प्रदेशो मे अच्छी  पैदावर बताई जा रही है । निर्यात सामान्य है । पिछले छ: से आठ माह में पुरानी हल्दी  की आवक भी बराबर देश की मंडीयो में रही है मगर सरकार की अनदेखी  से कालाबाजारीयो ने इसे भारी उंचे भाव पर थाम रखा बताया जा रहा है ।  हल्दी निजामाबाद का भाव  110 से 130  रू तथा लालगाय का भाव  158 से 160  रू तक  बताया गया । उघर जीरा पर स्टाकिस्टो की नजरे होने से उस पर तेजी का  वातावरण नाया जा रहा बताया जा रहा है । इससे जीरा का भाव में गत् हप्ता तेजी रही ।  जीरा राजस्थान  150 से 155 रू और उंझा मध्यम का भाव  165 से 168 रू तक रहा बताते है । साबुदाना में आगे  त्योंहारो की ताजा मांग निकलने उत्पादक स्थान सेलम में भारी तेज  होना बताया जा रहा है । इससे स्थानीय मंडी मे भी लगभग  200 रू का उछाला होना बताया रहा था ।  लूज साबुदाना विभिन्न कंपनियो का  5500 से 5800 रू तक  रहा ।  सच्चा मोती का भाव 5400  रू,  पेकिंग का भाव एक किलो में  5850 रू था  और वरलक्ष्मी का भाव  लूज में  5500 रू  बताया गया   जबकि पेंकिंग  एक किलो में यह 6100 रू तक बताया जा रहा है   धनिये के उत्पादन पर स्टोरियो द्वारा अफवाह फैलाई जा रही बताते है कि धनिये की फसल कमजोर है । उत्पादन में कमी होने की आशा में उस पर भी सटटे् से  तेजी बनाई जाने की चाल को बढावा देन थकी  खबर बनाई जा रही है । धनिया का थोक भाव  6800 से 7600 रू तक बताया जा रहा था ।  उत्पादक प्रदेश राजस्थान और म.प्र. की मंडिया में 200 से 300 बोरियो की आवकें बताई जा रही है । हांलाकि  खेरची में धनिया 150 रू किलो तक हो गया है । काली मिर्च पर कुछ राहत रही  होकर तेजी नही थी । गत् हप्त यह  425 -430  रू  और मटरदाना का भाव 465 से 475 रू तक होना बताया जा रहा था । इस वर्ष देश मे ंकाली मिर्च का उत्पादन गत् वर्ष की तुलना में अच्छा हुआ बताते है  फिर भी भाव में कमी नही आ पा रही है ।कालीमिर्च की तेजी के पीछे कोरोना वायरस के कारण काढा में अधिक उपयो देश-विदेशो मे आने और मांग बढने से कालीमिर्च के साथ ही लोंग, दालचीनी पर भी तेजी  रही । नारियल इस वर्ष हांलाकि अधिक उंचे भाव पर  नही गये है । ग त् वर्ष के उंचे  भाव 2100 रू से बढते हुऐ  3050  रू के उपरी भाव पर पहुच गये थे । । वर्तमान में 250 भरती का भाव 1900 से 1950 रू तक होना बताया गया है । हांलाकि आगे  इसमें तेजी की धारणा त्येहारी मांग बढने से रहेगी बताया जा रहा है । शक्कर में बाय प्रोडक्ट का इथेनॉल उत्पादन बढने और मांग में वृद्धि रहने से भाव तेज हुए है ।   इस वर्ष गन्ने का अछा उत्पादन हुआ है । इससे शक्कर उत्पादन बढता जा रहा है । शक्कर की निर्यात मांग भी होना बताई जा रही है । । थोकमंडी में शक्क भाव 3700 से 3750 रू तक होना बताऐ गये है । बाजार में खेरची भाव निम्न शक्कर का 40 - 45 रू तक हो गये बताऐ गये है ।  गत् हप्ते स्थानीय मंडियो मे शकर की आवकें लगभग 6-8 गाडियों की  औसत रही ।  नारियल के समर्थन में गोला और बुरा में भी इस वर्ष  इतने ही अनुपात  में तेज रहने की धारणा है ।  खोपरा बुरा मेंप्रशादी मांग के कारण तेजी रही । भाव 3000 से 3500 रू है  व्हील बुरा का भाव 3700 रू तक  था ग्लोब बुरा का भाव 2350 रू तक बताया गया ।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer