त्योहारों पर अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत

त्योहारों पर अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत
उपभोक्ता वस्तुओं की त्योहारों पर होगी बेहतर बिक्री
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । आगामी अक्टूबर और नवम्बर महीने में इस बार देश की अर्थव्यवस्था झुमेगी।जिसको लेकर कंपनियां अगले महीने से शुरु होने वाले त्योहार पर कंज्यूमर डय़ूरेबल गुड्स,व्हाइट गुड्स,ऑटो,गारमेंट जैसी सभी प्रमुख क्षेत्रों की बिक्री में भारी बढोतरी की उम्मीद में है।बहरहाल चुनिंदा राज्यों में कोरोना के सीमित रहने और टीकाकरण में जबरदस्त तेजी से त्योहारी मौसम पर उपभोक्ता वस्तुओं में ग्राहकी का भारी समर्थन मिलेगा।ऐसे में मैन्युफैक्चरिंग से लेकर रिटेलर तक त्योहारी मौसम में निकलने वाली भारी मांग को भुनाने की तैयारी शुरु कर दी है।जिससे त्योहारी मौसम की खरीद फरोख्त में और तेजी लाने को लेकर सभी सरकारी बैंक भी अगले महीने के दूसरे पखवाड़े से लोन के लिए विशेष अभियान चलाएगा।जिससे देश की दो अग्रणी ई-कॉमर्स कंपनियां फ्लिपकार्ट और अमेजन अगले महीने में बिक बिलियन सेल और ग्रेट इंडियन फेस्टिवल के लिए सुसज्य है।जिसके तहत फ्लिपकार्ट ने तो त्योहारी मौसम में होने वाली मांग के अनुमान को देखते हुए 1.15 लाख लोगों को अस्थायी नौकरी देने की घोषणा की है।ऐसे ही अमेजन भी भारी संख्या में लोगों को भर्ती कर रही है।
दरअसल देश भर के रिटेलरों की अग्रणी संस्था रिटलर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के सीईओ कुमार राजागोपालन ने कहा कि कोरोना टीकारण में तेजी से रिटेलर्स की बिक्री में बढोतरी की पूरी उम्मीद है और यहां तक कि वह कोरोना पूर्व काल से भी बेहतर कारोबार कर सकते हैं।वहीं गत अगस्त महीने में ही उत्तरी भारत की रिटेल बिक्री 2019 के अगस्त माह के 98 प्रतिशत पर तो दक्षिण भारत में 97 प्रतिशत पर पहुंच चुकी है।ऐसे में विशेषज्ञों की तरफ से कहा जा रहा है कि त्योहारी मौसम में तीन से पांच लाख तक सीजनल नौकरियें का सृजन हो सकता है और इसमें ई-कॉमर्स कंपनियां मुख्य भूमिका निभाने जा रही है।वहीं फ्लिपकार्ट की तरफ से कहा जा रहा है कि आने वाले त्योहारी मौसम में 1.2 लाख नए विक्रेता उनके प्लेटफार्म से जुड़ सकते हैं।वहीं रिटेल चेन विजय सेल्स से लेकर गोदरेज अप्लांयसेज को त्योहारी मौसम के तहत कंज्यूमर डय़ूरेबल व व्हाईट गुड्स की बिक्री में भारी बढोतरी की उम्मीद है। 

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer