चीनी उत्पादन 3.1 करोड़ टन होने का अनुमान

चीनी उत्पादन 3.1 करोड़ टन होने का अनुमान
चीनी का निर्यात सिर्फ 50-60 लाख टन रहने की संभावना
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । देश में एथनॉल के लिए अधिशेष गन्ना शीरे का उपयोग अधिक हो रहा है।जिससे चालू विपणन वर्ष के तहत भारतीय चीनी का निर्यात सिर्फ 50-60 लाख टन रहने की संभावना है।वहीं पिछले विपणन मौसम में भारतीय चीनी का निर्यात रिकॉर्ड 71 लाख टन का रहा था।यद्यपि चालू विपणन वर्ष में चीनी का उत्पादन 3.1 करोड़ टन होने का अनुमान है।
दरअसल इंडियन शुगर एक्जिम कॉरपोरेशन (आईएसईसी) के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अधीर झा ने कहा कि चालू विपणन वर्ष 2021-22 में भारतीय चीनी का निर्यात 50-60 लाख टन होने की संभावना है।उन्होंने कहा कि भारत को चालू सत्र में 70 लाख टन चीनी निर्यात करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि देश में एथनॉल के लिए अधिशेष गन्ना शीरे का उपयोग कर रहा है।उन्होंने यह भी कहा कि थाइलड से अधिक निर्यात किए जाने की उम्मीद के चलते भारत का चीनी निर्यात कम कम रहेगा।उन्होंने कहा कि हमें 2021-22 में 71 लाख टन चीनी निर्यात करने की आवश्यकता नहं है।हमारा अधिशेष प्रबंधन योग्य है।श्री झा ने कहा कि इúधन की बढती कीमतों के बीच उच्च परिवहन लागत के चलते मौजूदा सत्र में भारत को बेहतर निर्यात मूल्य की आवश्यकता होगी।उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय कीमतें एक साल पहले की तुलना में बेहतर है और आयातकों की तरफ से मांग के शुरुआती संकेत है।उन्होंने कहा कि चीनी मिलें आपूर्ति को जल्दी अनुबंधित करने को तैयार है।वहीं इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन (इस्मा) की तरफ से कहा गया है कि चालू विपणन वर्ष 2021-22 में चीनी उत्पादन 3.1 करोड़ टन होने का अनुमान है।चीनी की कुल उपलब्धता 3.95 करोड़ टन तक पहुंचने का अनुमान है जिसमें 85 लाख टन चीनी का प्रारंभिक स्टॉक भी शामिल है।वहीं घरेलू खपत 2.65 करोड़ टन होना अनुमानित है।वहीं चीनी का नियात् 60 लाख टन होने का अनुमान है।चालू विपणन वर्ष के अंत में चीनी का समापन स्टॉक 70 लाख टन का होगा।वहीं इस्मा की तरफ से पेट्रोल के साथ एथनॉल मिश्रण के बारे में कहा कि पेट्रोलियम विपणन कंपनियों को 3.25 अरब लीटर की आपूर्ति के साथ नवम्बर में समाप्त होने वाले एथनॉल विपणन वर्ष 2020-21 में इसका पेट्रोल में मिश्रण का स्तर 8.5 प्रतिशत तक पहुंच जाएगा।वहीं 2021-22 के एथनॉल विपणन वर्ष में पेट्रोलियम विपणन केपनियों को 4.25 अरब लीटर की आपूर्ति के साथ समिश्रण स्तर 10 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer