तिरुपुर, कोयंबटूर और दक्षिण-पश्चिम तमिलनाडु के कपड़ा उद्योग का होगा विकास

तिरुपुर, कोयंबटूर और दक्षिण-पश्चिम तमिलनाडु के कपड़ा उद्योग का होगा विकास
केद्र की `मित्रा योजना' : दक्षिण भारत के कपड़ा उद्योग ने किया स्वागत
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । केद्र सरकार की तरफ से 4,445 करोड़ रुपए के परिव्यय के साथ घोषित मेगा इंटीग्रेटेड टेक्सटाइल रीजन एंड अपैरल पार्क (मित्रा) की अवधारणा ने दक्षिण-पश्चिम तमिलनाडु में व्यवसायिक समुदाय और आबादी के बीच उत्साह बढा दिया है।इस मिशन में देश भर में सात विश्व स्तरीय टेक्सटाइल और परिधान पार्को की स्थापना की परिकल्पना की गई है।जिसमें उदार वित्तीय प्रोत्साहन जैसे प्रत्येक ग्रीनफील्ड पार्क को 500 एकड़ जमीन और प्रत्येक ब्राउनफील्ड पार्क को 200 एकड़ जमीन मिलेंगे।जिसके तहत प्रत्येक पार्क जो कपडा टाउनािशिप के रुप में है 1,00,000 प्रत्यक्ष रोजगार और 2,00,000 अप्रत्यक्ष रोजगार प्रदान करेगा।
दरअसल इन टेक्सटाइल पार्को में अनिवार्य आवश्यकता के रुप में केद्र सरकार की तरफ से निर्दिष्ट फाइव एक फॉर्मूला शामिल है।जिसके तहत फार्म से फाइबर से फैक्ट्री से विदेशी यानी निर्यात शामिल है।जिसके बारे में तिरपुर एक्सपोर्ट्स एसोसिएशन के चेयरमैन राजा एम षणमुगम ने कहा कि यह एक ड्रीम प्रोजेक्ट है क्योंकि विश्व स्तरीय औद्योगिक बुनियादी ढांचा अत्याधुनिक तकनीक को आकर्षित करेगा और इस क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश और स्थानीय निवेश को बढावा देगा।उन्हेंने कहा क मित्रा अवधारणा के परिणामस्वरुप कताई, बुनाई, प्रसंस्करण,रंगाई और छपाई को लेकर परिधान निर्माण तक एक एकीकृत कपड़ा मूल्य श्रृंखला होगी।जिसके तहत प्रत्येक पार्क में कोर इंफ्रास्ट्रक्चर के साथ न्यूनतम 1,000 एकड़ भूमि होगी जिसमें इनक्यूवेशन सेंटर और प्लग एंड प्ले सुविधा,विकसित फैक्ट्री साइट,सड़कें,बिजली,पानी और अपशिष्ट जल प्रणाली, सामान्य प्रसंस्करण हाउस और सामान्य अपशिष्ट उपचार संयंत्र और अन्य संबंधित सुविधाएं जैसे डिजाइन और प्रशिक्षण केद्र शामिल है। उन्होंने कहा कि तिरुपुर, कोयंबटूर और दक्षिण-पश्चिम तमिलनाडु के अन्य क्षेत्र जो कि विकास के लिए जूझ रहे हैं ।इन पार्को को स्थापित करने के लिए आदर्श स्थान होगा।वहीं कांयंबटूर के दो बार के सांसद सीपी राधाकृष्णन ने कहा कि जो कपड़ा निर्माण व्यवसाय की नब्ज जानते हैं  उसका हाथ की जरुरत है।चन्नई और आसपास के क्षेत्र सभी उद्योगों और लोगों से भरे हुए हैं ।उन्हांने कहा कि दक्षिण-पश्चिम तमिलनाडु में तिरुपुर है जो कि भारत के बुना हुआ कपड़ा निर्माण का प्रमुख केद्र है और अवधारणा इस क्षेत्र के अनुकूल है।वहीं राज एम षणमुगम ने कहा कि अवधारणा पार्क कपड़ा उद्योग की प्रतिस्पर्धात्मकता को बढाएगा जिसे पैमाने की अर्थव्यवस्था को प्राप्त करने में मदद करेगा और लाखों लोगों क लिए रोजगार के बड़े अवसर पैदा करेगा।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer