सूती धागा उच्च स्तर पर : रोटो में दो सप्ताह में रु.20 किलो की वृद्धि

हमारे संवाददाता
मौसम परिवर्तन के साथ त्योहार का सीजन शुरू होता है। कोरोना काल अब सब कुछ ठीक रहा तो आने वाले समय में सब कुछ ठीक से ज्यादा बेहतर रहेगा। सरकार अपना काम कर रही है और विरोधी पक्ष अपना काम तो कर रहे हैं , लेकिन उनकी छबि खराब होती जा रही है। किसान आंदोलन की श्रृंखला से लखीमपुरी खीरी उसका तिसरा पार्ट है। दूसरा पार्ट लाल किला देख चुके हैं । लगता तो यही है, इसमें कुछ न कुछ चलता रहेगा। शेयर मार्केट 60 हजार के सूचांक के बातें नये-नये उच्चतम रिकार्ड बनाता जा रहा है। हक स्थानीय सबब्रोकर ने बताया है कि अपना मुनाफा बुक करते रहना चाहिए। करेक्शन कभी भी आ सकता है।
टेक्सटाइल मार्केट के पावरलूम सेक्टर में कपास के बढ़ते भाव रुके हैं  या नरम है। उसका असर सूती धागे से कोर्स काउन्ट कुछ नरम है। 44 और 60 काउन्ट में अब भाववृद्धि हुई है। रोटो का यार्न दो सप्ताह में 20 रुपया किलो बढ़ा है। पीसी भी दो सप्ताह में 18 से 20 रुपया किलो बढ़ा है। मार्केट में कपड़ा बाजार नहीं चलने यानी ऊंचे भावों में लेवाली नहीं है। कपड़ा सिर्फ सूत बाजार बढ़ने से बढ़ता है। फिर भी पड़ता नहीं है। सूत व्यापारी कभी मिल के भावों को देखता है। कभी बुनकर की पड़ता को देखता है। बुनकर कभी सूत के भाव को देखता है। कभी कपड़ा बाजार को देखता है। अब ये भाववृद्धि आगे-पीछे सब में आने की संभावना है। सभी बाजारों में भाव वृद्धि देखी जा सकती है।
सूती धागा : सूती धागे ने जनवरी 21 में नये एतिहासिक भाव बनाये थे और बाजार आशानुरूप उसी ओर बढ़ रहे हैं । सप्ताह भर में सूती धागा कोर्स काउन्ट में कुछ नरम तथा 44 तथा 60 काउन्ट में गरम दिखा। यह नरम स्थानीय बाजारों में कपड़ा में बढ़े भावों में लेवाली नहीं होने से लग रही है। व्यापारी भी अपना माल हर भाव में बेचता रहता है और बुनकर भी हड टु माउथ चल रहा है। मंदी के बाद अचानक भाववृद्धि आने से कोई समझ नहीं पाता। 34 वेफ्ट उच्चतम भावों में है, 44 वार्प सभी नीचे है तथा 60 वेफ्ट के उच्चतम भावों से काफी कम है। या तो बाजार नीचे आना चाहिए और नहीं तो 60 वेफ्ट में एक अच्छी तेजी आ सकती है।
रोटो और पीसी : रोटो की टाप कहानी दो सप्ताह में लगभग 20 रुपया किलो बढ़ जाने से बदल गई है। सूत व्यवसायी आशिष (सोनू) शर्मा ने बताया कि पिछले 10-12 सालों से ये उच्चतम भाव है। अब मार्केट में कम भाव के सौदे जल्दी से डिलीवरी पुरी करने में लगे हैं । स्पिनर्स हर भाव में सेल क्लोज करते हैं । मालेगांव में कमजोर कड़ी कपड़ा बाजार है। दीपावली पर छुट्टियां रही तो मालेगांव में पावरलूम बंद रह सकते हैं । मालेगांव में रमजान-ईद पर लंबी छुट्टियां रहती हैं । पीसी के कपड़े में हल्का सुधार है और रोटो कपड़ा ठीक है। एक बार बाजार में हर तरफ तेजी की चर्चा है। भाव घटने का डर भी बना हुआ है। इसलिए सप्ताह भर देखो और इनतजार करने में निकल जायेगा।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer