दिपावली की होलसेल डिस्पैच चरम पर

दुर्गापूजा की रिटेल ग्राहकी रही मध्यम
मुंबई। एक बड़ी त्योहारिक सीजन समाप्त हो चुकी है, जिसमें कपड़े की होलसेल सप्लाई तो अच्छी हो रही, किन्तु रिटेल सेल ठीकठाक हो रहा।
कपड़ा बाजार में अब दिपावली की डिस्पैच काफी अच्छी देखी जा रही है और यह आगामी सप्ताह तक चलेगी, लूमों पर बीमो की कटिंग तेज की जा रही है क्योंकि दिपावली की बड़ी सीजन तो है ही साथ ही दूसरी जो बड़ी तकलीफ है वह है कोल की, क्योंकि सभी कपड़ा प्रोसेस वाली कपड़ा उत्पादकों से कह रहे हैं  कि, जो भी कपड़ा प्रोसेस करवाना है, उसे जल्दी भेजो, क्योंकि उनके पास कोल का स्टाक खतम हो रहा है और अगला स्टाक कब आएगा कुछ पता नहीं इसी के चलते लूमोंपर बीमे कर रही है और प्रोसेस हाउसेस में माल की इन्वेटरी बढ़ रही है।
दिपावली की रिटेल ग्राहकी फिलहाल तो कही भी नहीं दिख रही, लेकिन रिटेलरों को उम्मीद है कि आगामी 10 दिनों पश्चात से रिटेल में दिपावली की सेल प्रारंभ हो जाएगी।
बाजार में दिपावली पश्चात के लग्न सीजन की तैयारिया भी प्रारंभ हो चुकी है। गार्म़ेंट फैब्रिक सप्लायर्स द्वारा तो प्रोडक्शन प्रोग्राम भी प्रारंभ किए जा रहे है, और रिटेल काउंटर्स की फैब्रिक बनाने वालों ने भी सेम्पलिंग प्रारंभ कर दी है।
जिस हिसाब से यार्न के दाम बढ़ रहे हैं , डाइंग एवं प्रोसेसिंग के दाम भी बढ़ रहे हैं और पैकिंग मटेरियल के दाम भी बढ़ रहे हैं , इन सभी परिस्थितियों को देखते हुए यह प्रतीत हो रहा है कि दिपावली पश्चात कपड़े के दामों में उछाल आएगा, और दिपावली पश्चात लाइन से सीजन है, लगन, यूनिफार्म और फिर समर जिसके चलते बढ़े दामों में भी कपड़ा अच्छा बिकने की पूरी उम्मीद है।
दिपावली पश्चात कपड़ा बाजार तो अच्छा चलेगा, किंतु ऐसा प्रतीत हो रहा है कि आगे चलकर अच्छे माल की शार्टेज रहेगी, क्योंकि वर्तमान में सिर्फ ब्रांडेड घर एवं वित्तीय रूप से संपन्न कपड़ा व्यापारी ही नया माल बना रहा है और बाकी पूरा मार्केट बाजार चलने एवं पुराना पेमेन्ट आने की राह देख रहा है। जिसका सीधा असर उत्पादन पर हो रहा है, और फिलहाल सिलेक्टेड व्यापारी ही नया कपड़ा बना रहे हैं । सा ही दिपावली पश्चात लाइन से कामकाज चलेगा, कपड़े की मांग बढ़ेगी, उस वक्त बढ़े हुए दामों में भी कपड़ा बिकेगा, किन्तु जो व्यापारी लगातार कपड़ा बना रहा है, उसका व्यापार अच्छा रहेगा।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer