देश में बनेंगे 500 नए मल्टी मॉडल कार्गो टर्मिनल

देश में बनेंगे 500 नए मल्टी मॉडल कार्गो टर्मिनल
हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । केद्रीय रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने 14 अक्टूबर 2021 को देश में 500 नए मल्टी मॉडल कार्गो टर्मिनल बनाने की घोषणा की।प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की 100 लाख करोड़ रुपए की मेगा गति शक्ति योजना के शुभारंभ करने के एक दिन बाद ही यह निर्णय लिया गया है।रेल मंत्री ने कहा कि नए टर्मिनल बनाने का ब्लू प्रिंट तैयार है।जिस पर जल्द ही काम कर दिया जाएगा।
केद्रीय रेल मंत्री ने कहा कि मल्टी मॉडल कार्गो टर्मिनल से लॉजिस्टिक कॉस्ट घटेगी और कार्गो का आवागमन तेज व सुगम होगा।प्रधानमंत्री की गति शक्ति योजना में रेल यात्रियों के लिए मल्टी मॉडल टर्मिनल विकसित करना भी शामिल है।उन्होंने कहा कि विश्व स्तरीय बुनियादी ढांचा खड़ा करने के लिए नए मल्टी मॉडल कार्गो व पैसेंजर टर्मिनल संबंधी अवधारणरा पत्र जल्द ही पेश किया जाएगा।यह कार्गो टर्मिनल मौजूदा टर्मिनल (रेलवे स्टेशन) से पृथक होंगे।इनको पांच वर्ष में बनाने का लक्ष्य रखा गया है।इसमें रेल,रोड,जलमार्ग,हवाई मार्ग के कार्गो की सभी सुविधाएं एक छत (टर्मिनल) के नीचे होंगी।एकीकृत टर्मिनल सुविधाएं लॉजिस्टिक कॉस्ट को कम करेंगी।इस समय देश के जीडीपी का 13 प्रतिशत लॉजिस्टिक कॉस्ट है जो कि विकसित देशों की अपेक्षा बहुत अधिक है।इससे माल की कीमत बढ जाती है और विदेशी बाजार में महंगे भारतीय माल टिक नहीं पाते हैं ।वहीं मिशन गति शक्ति योजना में रेल ऑप्टिकल फािइबर केबल का उपयोग लॉजिस्टिक कॉस्ट कम करने में किया जाएगा।उन्होंने  कहा कि 68 हजार किलोमीटर रेलवे ट्रैक के साथ ऑप्टिकल फाइबर बिछाए गए हैं ।जिसके तहत बड़े रेलवे स्टेशन जैसे कि दिल्ली,मुंबई,कोलकाता,चिन्नई आदि के पुनर्विकास योजना के तहत नया पार्सल कार्गो टर्मिनल बनेगा।वहीं रेल यात्रियों के लिए मल्टी मॉडल पैसेंजर टर्मिनल को मेट्रो,बस अड्डे,हवाई अड्डों से जोड़ा जाएगा।इससे यात्री को एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने में परेशानी नहीं होगी।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer