भारतीय परिधान खुदरा विक्रेता वी-मार्ट की बिक्री दूसरी तिमाही में लगभग दोगुनी

हमारे संवाददाता
नई दिल्ली । भारत के प्रमुख मूल्य फैशन रिटेलर वी-मार्ट की चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही की बिक्री पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 176 करोड़ की बिक्री की तुलना में 93 प्रतिशत बढकर 338 करोड़ रुपए हो गई।बेहतर बिक्री और बेहतर आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन पहल ने भी एबिटिडा को बढाकर 21 करोड़ रुपए कर दिया जो कि परंपरागत रुप से एक मंद और सीजन की बिक्री और कम मार्जिन से प्रभावित एक छोटी तिमाही बनी हुई है।
वी-मार्ट के मुख्य प्रबंधक निदेशक ललित अग्रवाल ने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते चालू वित्त वर्ष की प्रथम तिमाही में कारोबार बाधित हो गया था बहरहाल जून के मध्य से परिचालन में तेजी से सुधार देखना उत्साहजनक था जिससे लगभग सभी बाजारों में हमारे स्टोर तेजी से फिर से खुल गए।जिसके तहत दक्षिण भारत में 74 अनलिमिटेड स्टोर्स का अधिग्रहण पहली सितंबर से प्रभावी रहा और तिमाही के लिए पूर्व कोरोना स्तरों की तुलना में बिक्री में 107 प्रतिशत की वसूली में मदद मिली।वहीं पहली जनवरी 2022 से मौजूदा 5 प्रतिशत से बढकर 12 प्रतिशत तक जीएसटी बढोतरी से 1000 रुपए से कम रेंज में परिधानों की इंवेंट्री और बिक्री में 88 प्रतिशत गिरावट के रुप में मार्जिन और भविष्य की बिक्री को प्रभावित कर सकता है।इस ब्रैकेट में यार्न की कीमतों में उल्लेखनीय वृद्वि अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) को हमारे सामान्य प्रतिस्पर्धी स्तरों पर रखने में थोड़ी चुनौती पेश करेगी।उन्होने कहा कि त्योहारी और सर्दी मौसम की शुरुआत से मजबूत बिक्री का अनुमान लगाने में विश्वास व्यक्त किया।विशेष रुप से उपभोक्ता भावना वापस सामान्य होने और केद्र सरकार के निरंतर टीकारण अभियान में मुख्स रुप से जिम्मेदार रहा है।

© 2021 Saurashtra Trust

Developed & Maintain by Webpioneer